23.7k Members 50k Posts

भ्रस्टाचार आचार

सरे आम अब बिक रहा भ्रस्टाचार आचार …
जनता खाने लग रही हो कर के लाचार…
हो कर के लाचार समझ में कछु नही आवे.
खावे जो तो मरा , मरा जो भी नही खावे..
..रमेश शर्मा…

1 Like · 11 Views
RAMESH SHARMA
RAMESH SHARMA
मुंबई
498 Posts · 32.5k Views
दोहे की दो पंक्तियाँ, करती प्रखर प्रहार ! फीकी जिसके सामने, तलवारों की धार! !...