.
Skip to content

भ्रष्ट कहौ जौ उनका तौ बौराय जात हैं.

प्रदीप तिवारी 'धवल'

प्रदीप तिवारी 'धवल'

गीत

December 28, 2016

भ्रष्ट कहौ जौ उनका तौ बौराय जात हैं.
थरिया कै अस जूँठन वै कर्राय जात हैं.

जब से भएँ सरकारी अफसर मिटा दरिद्दर सारा.
गाड़ी बंगला नौकर चाकर, खाय फिरी कै चारा.
वेतन से चौगुना वै खर्चा, उठाये जात हैं.

सुनौ कहानी वै मनई कै जेह्का कहत हौ नेता.
जेह्के आगे पानी मांगे बड़े बड़े अभिनेता.
दीमक बनिके सगरौ देशवा, खाये जात हैं.

शिक्षा कै तौ हाल न पूछौ दुरदिन किहे सवारी.
शिक्षक मिडडेमील खवावै पढ़बलिखब भा भारी.
सब मिलिके बेरोजगारी, बढ़ाये जात हैं.

दवा कम्पनिन के चक्कर माँ फंसे डाक्टर सारे
देश विदेश सैर को जाएँ प्रिस्क्रिप्सन के सहारे.
डाक्टरी सेवा मा कालिख, लगाये जात हैं.

न्यूज़ बेच के बना मीडिया सबसे बड़ा धुरंधर.
कलके छोट रिपोर्टर भैया आज महल के अन्दर.
राजनीति मा भोंपू बनके, चिल्लाये जात हैं.

धरम करम कै खूब दुकनियाँ भीड़ बड़ी है भारी.
नंबर दुई कै पैसा बढगा घूस लेंय त्रिपुरारी.
बाबा बनके जनता का, सताये जात हैं.

Pradeep Tiwari

Author
प्रदीप तिवारी 'धवल'
मैं, प्रदीप तिवारी, कविता, ग़ज़ल, कहानी, गीत लिखता हूँ. मेरी दो पुस्तकें "चल हंसा वाही देस " अनामिका प्रकाशन, इलाहाबाद और "अगनित मोती" शिवांक प्रकाशन, दरियागंज, नई दिल्ली से प्रकाशित हो चुकी हैं. अगनित मोती को आप (amazon.in) पर भी... Read more
Recommended Posts
सावन की मल्हार
??????? * मल्हार * ---------- अब कै तौ बिछुड़े , भायेली जानै कब मिलें जी । ऐजी चलौ झूलिंगे ,बागन में झूला डार ।। अब... Read more
किस्सा--चंद्रहास--अनुक्रम-7--दौड
किस्सा--चंद्रहास--अनुक्रम-7--दौड दौड़-- सुणो ऋषि या बात किसी मेरी प्रीत बसी मूर्ति के म्हां, बोल्या लड़का होग्या धड़का गड़बड़ का रह्या काम बण्या, मीठे मीठे बोल... Read more
"प्रकृति और मानव" (१)वन उपवन खंडित लखे, तरुवर सरिता खोय। निर्झर नयना नीर भर, बेसुध धरती रोय।। (२)फल लकड़ी छाया सहित,पुष्प दिए उपहार। शाख पत्र... Read more
कलह
साची कहँ सँ बड़े बूढ़े कलह हो स काल का वासा। घरबार उजड़ै खुद का अर दुनिया का होज्या हाँसा।। जिस घर म्ह रहवै रोज... Read more