Aug 16, 2016 · कविता
Reading time: 1 minute

भ्रमर

हाय कैसे भ्रमर चूसता है।
रस भला पुष्प भी देखता है।
खोलकर सोचता दल सभी है।
क्या मुझे कुछ मिलेगा कभी है।
जागता है अरे मैं सुमन हूँ।
चाहता जग भलाई अमन हूँ।
काम आकृष्ट करना रहा है।
बैर तुझ से मधुप कब रहा है।
धर्म से भेद करता नही हूँ।
मानता जातियों को नही हूँ।
खून मानव नसों में वही है।
फूल की दृष्टि सबसे सही है।

******************************************
नीरज पुरोहित रूद्रप्रयाग(उत्तराखण्ड)

46 Views
Copy link to share
Neeraj Purohit
12 Posts · 331 Views
You may also like: