.
Skip to content

भोले मुझपे रहम कर

Ankur pathak

Ankur pathak

गीत

July 10, 2017

तर्ज- सनम रे सनम रे
हो वो हो वो हो वो वो वो…..
नंगे नंगे से मै तेरे द्धार पे आऊं रे ,
दूध ,शहद , जल तुझपे चढ़ाऊँ रे ,
तेरा ही नाम जपूँ की झूम के नाचूँ मै ,
हौले हौले तेरे दरश को ,तेरी राह तकूँ ,
भोले रे ,भोले रे, सुनो मेरे प्यारे भोले रे
भोले रे ,भोले रे, सुनो मेरे प्यारे भोले रे
रहम रे रहम रे , ज़रा मुझपे रहम कर रे
भोले रे ,भोले रे, सुनो मेरे प्यारे भोले रे
तेरे करीब मै आकर भोले अर्जी सुनाऊँ रे
भोले रे ,भोले रे, सुनो मेरे प्यारे भोले रे
हो वो हो वो हो वो वो वो…..
कितनो का भोले तूने दुःख दूर किया है ,
बाझँ को पुत्र अंधे को रौशनी दिया है ,
पूरी दुनिया में भोले बस तेरा ही छाया है,
मेरा मुकद्दर चमका दे तू
नैया पार लगा दे तू
तेरे चरणों में ही बिताने मुझको
अपने सारे जनम रे
भोले रे ,भोले रे, सुनो मेरे प्यारे भोले रे
भोले रे ,भोले रे, सुनो मेरे प्यारे भोले रे
रहम रे रहम रे , ज़रा मुझपे रहम कर रे
भोले रे ,भोले रे, सुनो मेरे प्यारे भोले रे

Author
Ankur pathak
my self Ankur Pathak belongs to Aayodha-Faizabad but I live in Lucknow, My hobbies singing and writing poem,songs and comedy.
Recommended Posts
बाँट रहे रे
बेशर्म की कलम से अब ना अपने ठाठ रहे रे। निज जख्मों को चाट रहे रे।। कलतक जो मेरे अपने थे। वो ही मुझको डांट... Read more
काहे को सताये मोहे ……
काहे को सताये मोहे …… कौन गाँव से आयो रे तू कौन तेरा देश रे । काहे को सताये मोहे तू बदल बदल भेष रे... Read more
ब्रजभाषा में घनाक्षरी छंद
????? * श्री कृष्ण जन्म * **************** ब्रज वसुधा के कन नित जन-जन मन , फूलन में पातन में गूँजै नाम श्याम रे । मोहन... Read more
वक्त के सिमटते दायरे
हैं ये वक्त के सिमटते से दायरे, न जाने ये कहाँ, किस ओर लिए जाए रे? अंजान सा ये मुसाफिर है कोई, फिर भी ईशारों... Read more