.
Skip to content

भोला बचपन

Neelam Sharma

Neelam Sharma

गीत

June 15, 2017

सुनो,

क्या आपने पहचाना मुझे?
अरे भाई! मैं हूं भोला-मस्तमोला बचपन।

खेल रहा है भोला बचपन,रोज नए अहसासों से,
मन में उमंग भरने वाले, शरारती आभासों से।
बारिश में , सर्दी- गर्मी में ,अल्हडता बनी रहती है।
चंचल चपल तनावमुक्त, मुझको दुनिया कहती है।

कहीं मिल नहीं रहा जो आपको।
मैं वही छोटी छोटी खुशियों से भरा झोला बचपन।
बेपरवाह निश्छल सा मैं हूं भोला-मस्तमोला बचपन।

हर खेल में साथी बनाकर, रिश्ता नया बनाता बचपन।
हंसकर खिलखिला कर, फ़िक्र को धूंए में उड़ाता बचपन

नहीं द्वेश झूठ का पैमाना बस हंसने का बहाना बचपन।
क्यों हो गए आप इतने बड़े,बना यादों का ज़माना बचपन
दुनिया के सब झूठ, फरेब से होता है बेगाना बचपन।
मनमौजी दिवाना बचपन,मां का प्यारा​,पिता दुलारा प्रबल
उत्सुकता संग ऊर्जा विहल्ल जिद्दी हठीला बचपन।
प्यारा बचपन न्यारा बचपन, होता रंग रंगीला बचपन।
उम्र साठ हो या फिर पचपन, लगता सभी को प्यारा बचपन।

नीलम शर्मा

Author
Neelam Sharma
Recommended Posts
भोला बचपन
" भोला बचपन " --------------------- खेल रहा है..... भोला बचपन ! सागर के एहसासों से | निर्मित करते एक घरौंदा ! अपने कोमल हाथों से... Read more
बचपन
विश्वास भरे कदमों की आहट है "बचपन" जिज्ञासा भरी सोच का नाम है "बचपन" निश्वार्थ, निर्मल मन की उत्तम परिभाषा है "बचपन" छल, द्वेष, दम्भ,... Read more
बचपन
मैं अक्सर सोचती हूं रात के गहरे अंधेरो में न जाने क्यूं वो बीते पल अभी भी मुझमें ज़िंदा हैं मुझे अक्सर ही लगता है... Read more
बिटिया रानी
एक अनलिखी अनपढ़ी कहानी हूं, मैं जूही, चंपा व रातरानी हूं, हंसता बचपन और गुड्डे गुङिया, मैं तो बाबा की बिटिया रानी हूं, बङी हुई... Read more