कविता · Reading time: 1 minute

” भोर “

लावण्यमय है भोर धवल ,
सुरम्य श्वेत कली कमल ,
सुरभित सरोवर में तुहिन बिंदु,
अरुण आभा में खिल कमल|
…निधि…

29 Views
Like
You may also like:
Loading...