.
Skip to content

भोर की किरण……

CM Sharma

CM Sharma

मुक्तक

January 25, 2017

बीत गया जो उसे बीत जाने दे….
दिल दुखाये जो बात उसे भूल जाने दे….
नफरत हटा प्यार को बिखरने दे ज़रा…
फिर दिल से दिल का दीप जल जाने दे….

न ख़ुशी न गम रहता जहां में है सदा…
प्यार ही बस महकता है हर दिल में सदा…
वक़्त कैसा भी हो रुकता नहीं टिक कर….
रात का अंत भी तय है भोर की किरण दे है सदा…

Author
CM Sharma
उठे जो भाव अंतस में समझने की कोशिश करता हूँ... लिखता हूँ कही मन की पर औरों की भी सुनता हूँ.....
Recommended Posts
दिल ये मेरी  नज़र कर दे
दिल ये मेरी नज़र कर दे मुझको मेरी ख़बर कर दे दीवाना तुझको सदा रखूं मुझमें ऐसा हुनर कर दे जब- जब याद तेरी आये... Read more
करीब तो आने दे
एक बार मुझे तू अपने करीब तो आने दे ! हसरत आज इस दिल की ये मिट जाने दे !! किस तरह तड़पा है ये... Read more
खुश्बू-ए-गुल को हवाओं  से मिल जाने दे
खुश्बू-ए-गुल को हवाओं से मिल जाने दे रम जाने दे ज़रा सा और रम जाने दे दुनियाँ से ले जाएगा ये रोग इश्क़ का लग... Read more
** चलन है प्यार में रुसवाई का ***
पिघलती है बर्फ तो पिघलने दे सुलगती है आग तो सुलगने दे दिल पिघले तो कुछ बने बात जज़्बात बहके तो बहकने दे ।। सिलसिला... Read more