23.7k Members 50k Posts

भोर का सपना

भोर का सपना

भोर में
सपना आया
सपने में था
जातिविहीन समाज
भ्रष्टाचार मुक्त
शासन-प्रशासन
चिकित्सा-शिक्षा व
रोजगार के
समान अवसर
वर्ग व वर्ण विहीन समाज
महिला-पुरुष सभी को
समान अवसर
हर तरफ अमन चैन
हंसी-खुशी
उल्लास व्याप्त
महक रहा था छोर-छोर
चहक रहा था कोर-कोर
तभी खुली आँख
वो तो सपना था
हकिकत तो थी
वही भयावह

-विनोद सिल्ला©

5 Likes · 2 Comments · 86 Views
विनोद सिल्ला
विनोद सिल्ला
Hansi
367 Posts · 3.1k Views
टोहाना, जिला फतेहाबाद हरियाणा
You may also like: