Skip to content

भू -घटा संवाद

dr. pratibha prakash

dr. pratibha prakash

गीत

September 3, 2016

वारिश का मौसम और वरसात आत्मा की पुकार परमात्मा से
सुनिए धरा क्या कहती है घटा से एक आत्मीय संवाद

भू घटा संवाद

काली घटायें घिर घिर कर, प्यासे हृदय को दहकाती हैं
बन बदली छाये गगन पर, प्यासे की प्यास जगाती है

उम्मीद जगाकर वारिश की, बूंदों में आग लगाती हैं
झुक जाती भू से मिलन को, पल पल ये तरसाती हैं
प्यासे की——-

प्रीत बनी प्रतीक्षा भू की, नीलगगन को ध्याती है
देखके नभ् के इंद्रधनुष को, अपना श्रृंगार सजाती है
प्यासे हृदय——

आन मिलो पिय जिया बुलाये, मेरी हूंक ही पपीहा गाये
मोहे उड़ा दे अब चुनरिया, अँखियन आस जगाती है
प्यासे की——

चैन मिले ना रैन कटे, तुम बिन कैसे सेज सजे
युगों पुरानी प्रीत हमारी, मिलन की आस जगाती है
प्यासे हृदय——

घटा उवाच–

मदमाती,इतराती,इठलाती, बरस पड़ी मद को छलकाती
कहे धरा से फिर फैला बाहें, क्यों मुझको ऐसे बुलाती है
प्यासे की————-

झुलसाया मुझे तेरी प्यास ने, बरस पड़ी बनके तब रिमझिम
भूल गगन की ऊंचाई को, तेरे प्रीत के गीत को गाती है
प्यासे हृदय————-

बन फुहार तेरे प्रीतम की, तेरे उर की क्षुधा बुझाती है
अतृप्त तेरी अन्तस् की ज्वाला, फिर मेरे ही गीत को गाती है

मेरा दृष्टिकोण

प्यासे की प्यास बुझाती है, बूंदों से आँचल को सजाती है
हरियाली की ओढ़ ओढ़नी , गीत मल्हार तब गाती है
प्यासे की ——-
महक उठे तब वसुंधरा, झूलों पर मीत के राग सजे
इठलाई सरिता तरुनाई, मन मधुवन महकाती है
प्यासे हृदय—

Share this:
Author
dr. pratibha prakash
Dr.pratibha d/ sri vedprakash D.o.b.8june 1977,aliganj,etah,u.p. M.A.geo.Socio. Ph.d. geography.पिता से काव्य रूचि विरासत में प्राप्त हुई ,बाद में हिन्दी प्रेम संस्कृति से लगाव समाजिक विकृतियों आधुनिक अंधानुकरण ने साहित्य की और प्रेरित किया ।उस सर्वोच्च शक्ति जसे ईश्वर अल्लाह वाहेगुरु... Read more

क्या आप अपनी पुस्तक प्रकाशित करवाना चाहते हैं?

साहित्यपीडिया पब्लिशिंग से अपनी पुस्तक प्रकाशित करवायें और आपकी पुस्तक उपलब्ध होगी पूरे विश्व में Amazon, Flipkart जैसी सभी बड़ी वेबसाइट्स पर

साहित्यपीडिया की वेबसाइट पर आपकी पुस्तक का प्रमोशन और साथ ही 70% रॉयल्टी भी

साल का अंतिम बम्पर ऑफर- 31 दिसम्बर , 2017 से पहले अपनी पुस्तक का आर्डर बुक करें और पायें पूरे 8,000 रूपए का डिस्काउंट सिल्वर प्लान पर

जल्दी करें, यह ऑफर इस अवधि में प्राप्त हुए पहले 10 ऑर्डर्स के लिए ही है| आप अभी आर्डर बुक करके अपनी पांडुलिपि बाद में भी भेज सकते हैं|

हमारी आधुनिक तकनीक की मदद से आप अपने मोबाइल से ही आसानी से अपनी पांडुलिपि हमें भेज सकते हैं| कोई लैपटॉप या कंप्यूटर खोलने की ज़रूरत ही नहीं|

अधिक जानकारी के लिए यहाँ क्लिक करें- Click Here

या हमें इस नंबर पर कॉल या WhatsApp करें- 9618066119

Recommended for you