.
Skip to content

भूल तो होती रहे इंसान से

Dr Archana Gupta

Dr Archana Gupta

गज़ल/गीतिका

March 19, 2017

भूल तो होती रहे इंसान से
पर खफा सा वो रहे भगवान से

उम्र में छोटा हो हमसे या बड़ा
सीख लेना चाहिए विद्वान से

कामयाबी अपने’ चूमे जब कदम
दूर रहना चाहिए अभिमान से

फ़र्ज़ अपने जो किये पूरे नहीं
क्यों वही उम्मीद है संतान से

अंधविश्वासी कभी भी मत बनो
सत्यता को तोल लो विज्ञान से

वक़्त ही अपना पराया क्या हुआ
हो गए अपने सभी अंजान से

काम अच्छे भी करें कुछ ‘अर्चना’
पुण्य बस मिलते नही हैं दान से

डॉ अर्चना गुप्ता

Author
Dr Archana Gupta
Co-Founder and President, Sahityapedia.com जन्मतिथि- 15 जून शिक्षा- एम एस सी (भौतिक शास्त्र), एम एड (गोल्ड मेडलिस्ट), पी एचडी संप्रति- प्रकाशित कृतियाँ- साझा संकलन गीतिकालोक, अधूरा मुक्तक(काव्य संकलन), विहग प्रीति के (साझा मुक्तक संग्रह), काव्योदय (ग़ज़ल संग्रह)प्रथम एवं द्वितीय प्रमुख... Read more
Recommended Posts
ग़ज़ल।आइना उसको दिखाना चाहिए ।
""'''''''''''''''''''""""""""""""""ग़ज़ल""""""""''''"'''"""""""""""" आग़ बदले की बुझाना चाहिए । हर किसी को मुस्कुराना चाहिए । नफ़रतों से ज़ख़्म ही मिलता सदा । रंजिशों को भूल जाना चाहिये... Read more
हास्य -व्यंग्य कविता
हास्य -व्यंग्य कविता -------------------------- एकवार B.Ed.में हमारा भी गया टूअर, Cultural Programms में हम बड़े हो थे poor। कुछ देरबाद हमारा भी नम्बर आया ,... Read more
अपनें
अपनो को अपनो का सहारा चाहिए दो पल एक साथ गुजारा चाहिए.. अपने ही अपनो को समझ सकते हैं औरोम को समझने की मोहलत चाहिए..... Read more
स्वच्छता अभियान
बनवाएं हर घर, बस्ती, ग्राम व नगर; शौचालय है जरूरी, ज्ञान होना चाहिए। मान व मर्यादा रखें, आन बान शान लखें; अब खुले शौच का... Read more