.
Skip to content

भूल गए सब राम। दीपावली विशेष।

Dr ShivAditya Sharma

Dr ShivAditya Sharma

कविता

October 18, 2017

लक्ष्मी सबको याद रहीं
हैं भूल गए सब राम।
कलयुग की चकाचोंध में
मर्यादाओं का क्या काम।

पैसा पैसा सब करें
पैसे की है रीत।
पैसे के आगे कहां दिखे
बुराई पर अच्छाई की जीत।

मन को भी कर लो साफ
जैसे घर तिजोरी चमकाली।
तन भी सुंदर मन भी सुंदर
ऐसी हो शुभ दिवाली।

।।।।डॉ. शिव आदित्य शर्मा।।।।

Author
Dr ShivAditya Sharma
Consultant Endodontist. Doctor by profession, Writer by choice. बाकी तो खुद भी अपने बारे में ज्यादा नहीं जानता, रोज़ जिन्दगी जैसी चोट करती है वैसा ही ढल जाता हूँ।
Recommended Posts
पैसे का मोल
पैसा,वाह रे पैसा ! लोग पुछते नहीं है हाल, बेहाल होने पर गैर भी कूद आते है, पास में माल होने पर । मित्रता-शत्रुता पैसे... Read more
ग़ज़ल-ये तुम क्यों भूल गए
ग़ज़ल-ये तुम क्यों भूल गए मैंने तुम से प्यार किया था.....ये तुम क्यों भूल गए तुमको सब कुछ मान लिया था ये तुम क्यों भूल... Read more
मन की बात
मन मन की सब कोई कहे, दिल की कहे ना कोई। जो कोई दिल की कहे, उसे सुनता नही है कोई। मन पापी मन चोर... Read more
अब तो छोड़ ओ मुसाफिर , हाय पैसे का जंजाल
अब तो छोड़ ओ मुसाफिर हाय पैसे का जंजाल पल भर में मिटटी हो जाये मुद्रा ऐसी कमाल संचित करने में जो गुजर गए पिछले... Read more