भूले नहीं है

भूले नहीं है, तुमसे ही हमको, कितने जख्म मिले..२
दिल की सदा से, दिल को मिले थे, दिल को सितम मिले,
रहती है दिल में, तेरी ही यादे, दिल को भरम मिले..२

पहला सा मंजर, पहली सी आँखे, आंखो में गम मिले..२
तुमसे ही खोया, तुमसे ही रोया, तुम से सनम मिले,
कहती है आँखे, तेरी ही बात, बातों में तुम मिले..२

भूले नहीं है, तुमसे ही हमको, कितने जख्म मिले..२

दिन की दुपहरी, रातों के पहरी, सब ही खतम मिले..२
धोके में रखा, मोके पे आये, कितने मरहम मिले.
दुनिया है धोखा, धोखा है मौका, कितनो को हम मिले..२

भूले नहीं है, तुमसे ही हमको, कितने जख्म मिले..२

126 Views
‘‘तनहा शायर हूँ’’ | यश पाल सेजवाल ( जन्म 10 मार्च 1 9 80 ),...
You may also like: