भूली-बिसरी यादें हैं कुछ

भूली-बिसरी यादें हैं कुछ
और पुराने वादें हैं कुछ

जीवन इक कड़वी सच्चाई
लेकिन मीठी यादें हैं कुछ

तन्हा-तन्हा-सी बरसों से
हाँ लव पर फरियादें हैं कुछ

चाहे दिल पर और सितमकर
देख बुलन्द इरादें हैं कुछ

दिलवालों की ज़ेबें ख़ाली
फिर भी वो शहजादें हैं कुछ

Like Comment 0
Views 4

You must be logged in to post comments.

Login Create Account

Loading comments
Copy link to share
Sahityapedia Publishing