भीषण रेल हादसा।

रेल हादसा में मारे गये यात्रियों को अश्रुपूर्ण श्रद्धांजली—
?????
भीषण रेल हादसा,
कई जिन्दगियाँ लील गया।
रविवार की सुबह,
ना जाने कितनों के लिए स्याह बन गई।
जलजला आ गया,
धमाका सा हुआ,
खामोशी अचानक मातम में तबदील हो गई।
संभलने का मौका न मिला,
चंद पलों में,
हर तरफ अफरा-तफरी,
और चीख पुकार मच गई।
बेहद दर्दनाक मंजर,
किसी का हाथ कटा,
किसी का पैर गायब,
जाने कितनें जिन्दगियाँ काल के ग्रास हो गई।
अपनों को ढूंढते परिजन,
मासुमों के चेहरे पर भ्यानक डर,
जिन्दगी के लिए जद्दोजहद,
दिल दहला देने वली स्थिति,
जिसे देखकर पत्थर भी फूटकर रो पड़ा।
क्या भारत में रेल हादसा कभी रूकेगें?
तड़पते हर लोगों के जहन में ये सवाल उठ गया।
प्रशासन की लापरवाही,
ना जाने कितने घर को तबाह कर गई।
?????—लक्ष्मी सिंह

130 Views
लक्ष्मी सिंह
लक्ष्मी सिंह
नई दिल्ली
727 Posts · 254.8k Views
MA B Ed (sanskrit) My published book is 'ehsason ka samundar' from 24by7 and is...
You may also like: