Sep 13, 2016 · कविता
Reading time: 1 minute

भाव भंगिमा

मूक हूँ मैं, मौन हूँ मैं,
मुझको तू जुबान दे,,,
देखकर बस भाव भंगिमा,
मुझमें तू जाँ डाल दे,,,
दे नये आयाम इस चित्र को तू,
मूक सी इस छवि को दास्तान दे “”
दिखाकर मुझे दरपन लफ्जों का,
मुझको ही मेरी पहचान दे “”,,,
चाहूँ बस कुछ तवज्जो तेरी,,
ना तू मुझे पूरा जमीं आसमान दे,,,,,
बस थम जा कुछ देर
यही,अरमानों को मेरे इक नया जहान दे
उकेर कर इबारत पत्थर पर,
शब्दों से कुछ निशान दे,,,
बेजान सी पङी लाश को,
जिंदगी जीने का सामान दे,,,,
बन ना जाये स्याही जीवन की
इसको नूतन नाम दे
अनवरत जारी है कविता
रोककर तू विराम दे

नूतन

108 Views
Copy link to share
nutan agarwal
8 Posts · 423 Views
You may also like: