23.7k Members 50k Posts
Coming Soon: साहित्यपीडिया काव्य प्रतियोगिता

भारत ही हर ओर है

शोर है हां शोर है हर जगह यह शोर है
हर दिशा हर जगह हर मुल्क में हर ओर है

सिर्फ भारत सिर्फ भारत भारत का ही जोर है

बाग ऐ बहिश्त धरा जहाँ की
आफरीन फिजा यहां की
सारी निकाहत इस जहां की, चड़ रहा वो भोर है

शोर है,,,,,,,,, भारत ही हर ओर है

हर ओर जहाँ फैला ये चमन
धरती से लेकर गगन
शांति का प्रतीक हवाओं में बिखरा अमन, मुहब्बतें हर ओर है

शोर है,,,,,,,,, भारत ही हर ओर है

राधा मीरा गीत गवैया
हर चौराहे राम रमैया
मुरलीमनोहर क्रष्ण कन्हैया दाता माखन चोर है

शोर है,,,,,,,,, भारत ही हर ओर है

कुदरत की सारी फिजायें कश्मीर में चूर है
अम्रितसर का स्वर्ण मंदिर कोई नूर है
मुहब्बत की दास्तां को ताजमहल मशहूर है यहां अलौकिकता घन्घोर है

शोर है,,,,,,,, भारत ही हर ओर है

111 Views
Govind Kurmi
Govind Kurmi
सागर
57 Posts · 4.5k Views
7509786197 8770267644
You may also like: