लेख · Reading time: 3 minutes

भारत में लागू तमाम योजनाओं का विवरण

भारत में लागू तमाम योजनाओं का विवरण
सर्वप्रथम मैं बात करना चाहती हूँ भारत में लागू तमाम ऐसी योजनाओं के बारे में जो सरकार ने केवल अपनी सुविधाओं के लिए बना रखी हैं जैसे एक योजना सरकार ने लागू की है घर घर रसोई गैस पहुँचाने की उज्जवला योजना इस योजना में इतना अधिक लापरवाही है की बताया नहीं जा सकता गरीबी रेखा से नीचे जीवन यापन करने वाले परिवारों के लिए सरकार ने एक लिस्ट हर गैस एजेंसियों पर वितरित की है जिसमे इतनी ज्यादा त्रुटियां हैं की समझ नहीं आता की कौन गरीब है और कौन अमीर कई ऐसे लोगों के नाम हैं इसमें जिनको इस योजना की कोई जरुरत नहीं और कई ऐसे लोगों के नाम नहीं हैं जो वास्तविक रूप से लाभ पाने योग्य हैं पहले तो सरकार को एक ऐसा कानून लागू करना चाहिए जिसमे हर व्यक्ति की मासिक आय और मासिक खर्चों का विवरण हो सरकारी नौकरी वाले व्यक्ति को एक एक लाख रुपए वेतन मिलता है महीने में और प्राइवेट नौकरी वाले का कोई जिक्र नहीं है कैसे ये उज्जवला योजना लागू की है सरकार ने कुछ समझ नहीं आता,

दूसरी योजना सरकार की है रिटायर्ड व्यक्ति को जीवन काल तक पेंशन देने की एक तो नौकरी के वक़्त इतना अधिक वेतन होता है की एक व्यक्ति कमाता है तो सारा घर खाता है और उसके बाद नौकरी खत्म तो पेंशन शुरू मैं ये नहीं कह रही की पेंशन बंद होनी चाहिए मैं बस इतना कह रही हूँ की एक तरफ तो सरकार कहती है की सरकारी खजानों में पैसा नहीं है और दूसरी तरफ सरकारी नौकरी वाले को एक एक लाख वेतन मिलता है और जो व्यक्ति अपना आम जीवन यापन कर रहा है उसको कोई पेंशन नहीं कोई लाभ नहीं अगर एक सरकारी व्यक्ति के वेतन में से सिर्फ ५००० रुपए ही निकले जाए तो मैं समझती हूँ की प्राइवेट नौकरी करने वाले पांच व्यक्तिओं के हिस्से में एक एक हजार रुपए आ सकते हैं मगर अफ़सोस यही है की सरकारी खजानों में पैसा नहीं है,

तीसरी योजना सरकार की व्यवश्थाओं की है ऐसी व्य्वसथाएं हैं हर शहर हर जिले में की जबाब नहीं है कहीं इतनी बेहतरीन सड़के हैं और कहीं निकलना दुशवार है
कहीं तो कैमरे लगे हैं इतने की कोई निकले तो भी रिकॉर्ड हो जाये और कहीं पूरी वारदात हो जाती है और दोषी का पता तक नहीं चलता है कहीं जानवर एक नहीं दिखता है और कहीं सिर्फ जानवर ही नजर आते हैं,इतनी ज्यादा स्थिति ख़राब है हर शहर और जिले की बयान कर पाना मुश्किल है,हर तरफ बस बाते ज्यादा हैं और काम काम है ये है सरकार आज की,

चौथी योजना है सरकार की चुनाव के वक़्त ढेर सारे झूठे वादे और उनके गलत इरादे शामिल होने की हर कोई बस झूठ ही बोलता है सिर्फ झूठ इतने अधिक वादे करता है की खुद ही भूल जाता जाता है की करना क्या है हर गली हर मोहल्ले में इस वक़्त एक अजीब सा मेला लगा हुआ है हर गली में एक चुनाव निशान के साथ एक उम्मीदवार का फोटो छपा हुआ एक बैनर लगा है और प्रत्याशी जीत की दरकार लिए खड़ा है इस चुनाव के दौर को देखते हुए मैंने कुछ पंकियाँ लिखी हैं जो आपके बीच रखना चाहती हूँ ठीक लगे तो समर्थन दीजियेगा,

हर तरफ चुनाव का त्यौहार है,
हर किसी को जीत की दरकार है,
हर किसी की बातों में बस वादे हैं,
पर इन वादों के पीछे छुपे गलत इरादे हैं,
जीतेगा बस एक मगर सब लगे हैं कतार में,
क्या पता कौन बाज़ी मारे चुनाव की बहार में,
कुर्सी मिलते ही किसी को न पहचानेंगे,
कौन हो तुम क्या नाम तुम्हारा बस इतना ही जानेंगे,
हाथ जोड़कर आये हैं जो आज तुम्हारे द्धार,
इन सारे नेताओं की महिमा है अपरम्पार,
हाथ जोड़कर नोट कमाना यही है इनका व्यापार,
इनको बस कुर्सी मिल जाये भाड़ में जाए सरकार,

-लेखिका रश्मि शुक्ला
– पीलीभीत उत्तर प्रदेश

1 Comment · 36 Views
Like
46 Posts · 2.5k Views
You may also like:
Loading...