Skip to content

भारत माता

prerna jani

prerna jani

कविता

November 11, 2016

भारत माता की धरा
है पावन धाम,
जाति धर्म का नहीं बन्धन,
अतिथि देवो भव का वन्दन,
भारत माता की धरा
है पावन धाम |

राम रहीम जन्मे यहाँ,
अलग अलग है विजयगान,
भिन्न -भिन्न संस्कृतियाँ करती सदा गुणगान,
भारत माता की धरा,
है पावन धाम |

सब तीर्थों में एक तीर्थ तेरा,
सबको बनाता मित्र ,
बैठ तेरे आँगन,
करते लाल जनकल्याण ,
भारत माता की धरा
है पावन धाम |

प्रेरणा जानी

Share this:
Author
prerna jani
ऍम . बी . ऐ . लेखक , ब्लॉगर
Recommended for you