.
Skip to content

भारत माता

sunny gupta

sunny gupta

मुक्तक

April 21, 2017

गंगा सी पावनता जिसमे,सरयू सी पहचान है।

कंठ में जमुना जैसी कल कल,सरस्वती सी ज्ञान है।

जिसके अंक में पड़ी नर्मदा,केश गंडकी बसती है।

ऐसे अद्भुत रूप का संगम भारत की पहचान है।।

कृतिकार
सनी गुप्ता मदन
9721059895
अम्बेडकरनगर

Author
sunny gupta
Recommended Posts
आज मौन में कुछ हलचल सी है , नयनों में कुछ कल - कल सी है | उर -आँगन में मचली गूंज सी है ,... Read more
हिन्दी कहे पुकार के :कुंडलिया छंद
हिन्दी कहे पुकार के,मैं भारत की शान। मैं फूलों का हूँ चमन,महकी-सी पहचान। महकी-सी पहचान,कोई माने न माने। मुझे अपनाए हर जन,खुद को भारती जाने।... Read more
देश मेरा मेरी पहचान
" देश मेरा मेरी पहचान " ------------------------------- देश मेरा है मेरी जान , सदा मेरा पल-पल अभिमान | इसकी रक्षा धर्म है मेरा , देश... Read more
हिंदी
हिंदी हिंदी भारत माँ की बोली माँ के दूध -सी मिश्री घोली उसके सब हैं,वह है सबकी जैसे रिश्ता दामन-चोली हिंदी है हर मुख की... Read more