भारत माँ मुस्काई है ।

*भारत माँ मुस्काई है ।*

केसरिया घाटी महकी है
स्वर्ग भूमि हर्षाई है
ऋषि कश्यप की तपोभूमि पर
राष्ट्र ध्वजा लहराई है

*भारत माँ मुस्काई है ।*

घाटी में मचते तांडव से
वीरों के ताबूतों से
अब तक रोती रही सिसकती
भूल नहीं कुछ पाई है

*भारत माँ मुस्काई है ।*

सत्तर सालों से सहती सब
न्याय मांगती शीशों के
दर्द नहीं समझा था कोई
उर अन्तस की टीसों के
आज पुनः गर्वित है मस्तक
घड़ी सुहानी आई है

*भारत माँ मुस्काई है ।*

अमन चैन अब कायम होवे
रक्त पात की बात न हो
राष्ट्र धर्म हो मजहब केवल
बहके फिर जज़्बात न हों
करें सृजन नव काश्मीर का
स्वर्णिम वेला आई है

*भारत माँ मुस्काई है ।*

*अनुराग दीक्षित*

क्या आप अपनी पुस्तक प्रकाशित करवाना चाहते हैं?

साहित्यपीडिया पब्लिशिंग द्वारा अपनी पुस्तक प्रकाशित करवायें सिर्फ ₹ 11,800/- रुपये में, जिसमें शामिल है-

  • 50 लेखक प्रतियाँ
  • बेहतरीन कवर डिज़ाइन
  • उच्च गुणवत्ता की प्रिंटिंग
  • Amazon, Flipkart पर पुस्तक की पूरे भारत में असीमित उपलब्धता
  • कम मूल्य पर लेखक प्रतियाँ मंगवाने की lifetime सुविधा
  • रॉयल्टी का मासिक भुगतान

अधिक जानकारी के लिए इस लिंक पर क्लिक करें- https://publish.sahityapedia.com/pricing

या हमें इस नंबर पर काल या Whatsapp करें- 9618066119

Like 1 Comment 0
Views 2

You must be logged in to post comments.

Login Create Account

Loading comments
Copy link to share