.
Skip to content

भारत भू को बाँट रहे

सतीश चोपड़ा

सतीश चोपड़ा

कविता

March 2, 2017

कर गुणगान इतिहास का ये जो भारत भू को बाँट रहे
निवाला एक देकर हमे ये जो रस मलाई को चाट रहे

पथ भटके हो करतब उनके तुम नहीं समझ पाओगे
खो चुके आपस का भाई चारा कैसे संभल पाओगे
लड़ाकर तुम्हे एक दूसरे से देखो ले अब वो ठाठ रहे

तू मुसलमान मैं हिन्दू तू जाट मैं चमार बता फर्क क्या है
तू पढता नमाज मैं करता आरती जरा बता हर्ज क्या है
लाल करवाकर आँख हमारी दुश्मन नंगे वो नाच रहे

हम सबका है ये देश बीज प्यार के पुरखों ने बोए है
आज नहीं तो कल हम सबने पिता और बेटे खोए है
फिर होते कौन हैं प्रमाणपत्र देशभक्ति के जो बाँट रहे

कर गुणगान इतिहास का ये जो भारत भू को बाँट रहे
निवाला एक देकर हमे ये जो रस मलाई को चाट रहे

Author
सतीश चोपड़ा
नाम: सतीश चोपड़ा निवास स्थान: रोहतक, हरियाणा। कार्यक्षेत्र: हरियाणा शिक्षा विभाग में सामाजिक अध्ययन अध्यापक के पद पर कार्यरत्त। अध्यापन का 18 वर्ष का अनुभव। शैक्षणिक योग्यता: प्रभाकर, B. A. M.A. इतिहास, MBA, B. Ed साहित्य के प्रति विद्यालय समय... Read more
Recommended Posts
क्या हिन्दू क्या मुस्लिम यारों
क्या हिन्दू,क्या मुस्लिम यारों ये अपनी नादानी है! बाँट रहे हो जिस रिश्ते को वो जानी-पहचानी है!! क्या पाया है लड़कर कोई छोड़ ये ज़िद्द... Read more
गीत :तेरी-मेरी नहीं दिल की बात....???
तेरी-मेरी नहीं,दिल की बात होगी आज। वो आगे आए,जिसके कलेजे होगी खाज।। तू अभिमान भरा है,मैं भी नहीं हूँ खाली। तू डाल-डाल है तो,मैं पात-पात... Read more
जब तू ही अंजान बन बैठी है
खुदा से शिकायत क्या करूँ अब तेरी बगावत क्या करूँ जब तू ही अंजान बन बैठी है तो अपनो की पहचान क्या करूँ गुज़ीदा जवहार... Read more
"तू ही बता ज़िन्दगी" तू ही बता ऐ ज़िन्दगी तेरा मैं क्या करूँ, मेरी हंसी तुझे रास नहीं आती, मेरी उदासी मेरी माँ को नहीं... Read more