भारत की जमीं

वो हँस रहे इंसानियत पर , कहते है सारा जमाना है उनके साथ ,
गिला मत कर इंसान “ जग के मालिक का प्यार ” है तेरे साथ I

“जहाँ” में हँस-2 कर दिलों में जख्मों के घाव देते गए ,
अपना कहकर मन मंदिर में सुई का नश्तर चुभोते गए,
प्यार की फुलवारी में घ्रणा- नफरत का बीज बोते गए,
“ नागफनी जुबान ” से इंसानियत का क़त्ल करते गए I

वो हँस रहे इंसानियत पर , कहते है सारा जमाना उनके साथ ,
गिला मत कर इंसान “ जग के मालिक ” का ऐतबार तेरे साथ I

जिस जमीं की माटी को बड़े-2 संत-पीर भी है तरसते ,
छोटा-बड़ा का आवरण पहनकर हम आपस में झगड़ते ,
“मालिक के बेगुनाह बन्दों” का क़त्ल करके नाज़ करते,
माटी के पुतले उसकी खौफ भरी नज़रों से भी नहीं डरते I

वो हँस रहे इंसानियत पर , कहते है सारा जमाना उनके साथ ,
गिला मत कर इंसान “जग के मालिक” का तुझ पर है विश्वास I

“राज” पावन जमीं की माटी को सात जन्म तक न छोडूं ,
कबीर, तुलसी, खुसरों की जमीं से कभी भी नाता न तोडूं ,
मालिक के दरबार में खड़ें होकर उसके सामने हाथ जोड़ू ,
एक मौका इस जमीं पर और दे देना तभी अपने प्राण छोडूं I

वो हँस रहे इंसानियत पर , कहते है सारा जमाना उनके साथ ,
गिला मत कर नेक इंसान “जग के मालिक का प्यार” तेरे साथ I

देशराज “राज”

क्या आप अपनी पुस्तक प्रकाशित करवाना चाहते हैं?

साहित्यपीडिया पब्लिशिंग द्वारा अपनी पुस्तक प्रकाशित करवायें सिर्फ ₹ 11,800/- रुपये में, जिसमें शामिल है-

  • 50 लेखक प्रतियाँ
  • बेहतरीन कवर डिज़ाइन
  • उच्च गुणवत्ता की प्रिंटिंग
  • Amazon, Flipkart पर पुस्तक की पूरे भारत में असीमित उपलब्धता
  • कम मूल्य पर लेखक प्रतियाँ मंगवाने की lifetime सुविधा
  • रॉयल्टी का मासिक भुगतान

अधिक जानकारी के लिए इस लिंक पर क्लिक करें- https://publish.sahityapedia.com/pricing

या हमें इस नंबर पर काल या Whatsapp करें- 9618066119

Like Comment 0
Views 193

You must be logged in to post comments.

Login Create Account

Loading comments
Copy link to share