कविता · Reading time: 1 minute

भारतीय पटल पर अटल

******भारतीय पटल पर अटल******
*******************************

हिन्दी भाषा के कवि ,वक्ता और पत्रकार
अटल बिहारी वाजपयी दबंग कलमकार

परिश्रमी,समर्पित,कर्तव्यनिष्ठ थे जनसंघी
भारतीय जनता पार्टी के महान कर्णधार

जीवन में सफलता की ऊचाइयों को छूआ
देशहित में कार्य करने वाले सिपाहसालार

राष्ट्रीय पत्र पत्रिकाओं का किया संचालन
प्रेरणादायक कविताएँ लिख किया सुधार

ओजस्वी भाषण से लेते थे दिल को मोह
कूट राजनीति में थे सटीक माहिर प्रतिहार

अटल का वार्तालाप का अनोखा अंदाज
कुशल विश्लेषक थे समझ से समझदार

संसद में पार्टी की दो सीटों से शुरुआत
विपक्ष पे करते थे तीखे कटाक्ष भरे प्रहार

बात मनावन का बिल्कुल ढंग था निराला
कायल थे वाकपटुता के सब सियासतदार

चार दशकों से बन रहे थे संसद के सदस्य
राष्ट्रीय स्वयं सेवक बन किया पार्टी प्रचार

तेरह दिन की सरकार से नहीं हुए हताश
प्रधानमंत्री बन कर कर दिए स्वप्न साकार

फूलों की खेती पर दिया पुरजोर समर्थन
रोजगारोन्मुखी योजनाएं शुरू की अपार

भारत परमाणु शक्ति का बन गया सम्राट
पाकिस्तान संग संबंधों में भी हुआ सुधार

कारगिल युद्ध मे दिला ऐतिहासिक जीत
ईंट का जवाब पत्थर से दिया था सरकार

आजीवन भर अटल जी रहे अविवाहित
सारा जीवन देश सेवा में लिया था गुजार

मृत्यु को सदा सदा के लिए गले लगाया
सोलस अगस्त अट्टारह को गए पूर्ण हार

मनसीरत पटल पे अटल के जो योगदान
याद रखेगा सदा भारत बढ़ाया हैं व्यापार
*******************************
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
खेड़ी राओ वाली (कैथल)

1 Like · 1 Comment · 34 Views
Like
Author
सुखविंद्र सिंह मनसीरत कार्यरत ःःअंग्रेजी प्रवक्ता, हरियाणा शिक्षा विभाग शैक्षिक योग्यता ःःःःM.A.English,B.Ed व्यवसाय ःःअध्ययन अध्यापन अध्यापक शौक ःःकविता लिखना,पढना भाषा ःःहिंदी अंग्रेजी पंजाबी हिन्दी साहित्यपीडिया साईट पर प्रथम रहना प्रतिलिपि…
You may also like:
Loading...