Skip to content

भाभी बोलीं बाय-बाय…: हास्य घनाक्षरी

Ambarish Srivastava

Ambarish Srivastava

कविता

October 6, 2016

रोज रोज आते जाते, भाभीजी को छेड़ें भैया,
बाय-बाय चार बच्चों, वाली अम्मा गोरी हो .
भैया रोज लेते मौज, भाभी होतीं परेशान.
अच्छी नहीं खींचतान, ना ही जोराजोरी हो .
समझाया सहेली ने भाभीजी को इकरोज,
खुलेआम दे दो डोज, दुखे पोरी-पोरी हो.
ससुरे से चले भाय, भाभी बोलीं बाय-बाय,
चार में से दो बच्चों के, बापू शुभ होरी हो..

–इंजी० अम्बरीष श्रीवास्तव ‘अम्बर’

Recommended
क्यू नही!
रो कर मुश्कुराते क्यू नही रूठ कर मनाते क्यू नही अपनों को रिझाते क्यू नही प्यार से सँवरते क्यू नही देख कर शर्माते क्यू नही... Read more
आहिस्ता आहिस्ता!
वो कड़कती धूप, वो घना कोहरा, वो घनघोर बारिश, और आयी बसंत बहार जिंदगी के सारे ऋतू तेरे अहसासात को समेटे तुझे पहलुओं में लपेटे... Read more
ये माना घिरी हर तरफ तीरगी है
ये माना घिरी हर तरफ तीरगी है मगर छन भी आती कहीं रोशनी है न करती लबों से वो शिकवा शिकायत मगर बात नज़रों से... Read more
आस!
चाँद को चांदनी की आस धरा को नभ की आस दिन को रात की आस अंधेरे को उजाले की आस पंछी को चलने की आस... Read more
Author
Ambarish Srivastava
30 जून 1965 में उत्तर प्रदेश के जिला सीतापुर के “सरैया-कायस्थान” गाँव में जन्मे कवि अम्बरीष श्रीवास्तव एक प्रख्यात वास्तुशिल्प अभियंता एवं मूल्यांकक होने के साथ राष्ट्रवादी विचारधारा के कवि हैं। प्राप्त सम्मान व अवार्ड:- राष्ट्रीय अवार्ड "इंदिरा गांधी प्रियदर्शिनी... Read more