भाई चारा अपना ले

भाई चारा अपना ले
****************
संत ज्ञानी कहते है,
भाई चारा अपना ले।
प्रेम की गंगा को,
जीवन में बसा ले।।
मत करो बैर भाव ,
सत्य असत्य को जानें।
भाई के इस रिश्ते को,
अटूट बंधन बना ले।।
मिलजुल कर रहना,
कठिन परिश्रम कर ले ।
आसमां तुम्हारे कदमों में रहे,
ऐसी मंजिल को पा ले।।
दंग हो जाये देखकर,
अब दुनिया वाले भाई।
ऐसा महान काम कर,
कि मिशाल बन जाए।।
हिन्दू मुस्लिम सिख ईसाई ,
हम सब भाई भाई।
बना ले ऐसी एकता,
विश्वबंधुत्व की भाव आ जाए।।
मंदिर में शंख फुक दे,
या अजान पढ़ दे।
नहीं कोई बैर अब,
ऐसा कोई जयघोष कर दे।।
भाई भाईजान ईद होली,
अब संग संग मनाए।
न हो कहीं अंधेरा अब,
जग सारा रोशन हो जाए।।
****************************
रचनाकार डिजेन्द्र कुर्रे “कोहिनूर”
पीपरभावना ,बलौदाबाजार (छ.ग.)
मो. 8120587822

क्या आप अपनी पुस्तक प्रकाशित करवाना चाहते हैं?

साहित्यपीडिया पब्लिशिंग द्वारा अपनी पुस्तक प्रकाशित करवायें सिर्फ ₹ 11,800/- रुपये में, जिसमें शामिल है-

  • 50 लेखक प्रतियाँ
  • बेहतरीन कवर डिज़ाइन
  • उच्च गुणवत्ता की प्रिंटिंग
  • Amazon, Flipkart पर पुस्तक की पूरे भारत में असीमित उपलब्धता
  • कम मूल्य पर लेखक प्रतियाँ मंगवाने की lifetime सुविधा
  • रॉयल्टी का मासिक भुगतान

अधिक जानकारी के लिए इस लिंक पर क्लिक करें- https://publish.sahityapedia.com/pricing

या हमें इस नंबर पर काल या Whatsapp करें- 9618066119

Like 1 Comment 0
Views 4

You must be logged in to post comments.

Login Create Account

Loading comments
Copy link to share