भाईचारा

*********भाईचारा**********
*************************

भाई भाई बीच होता था भाईचारा
भाई भाई बीच बंट गया भाईचारा

भाई भाई पे देता था जो जान वार
आज आतुर है जान लेने भाईचारा

टोटे में जो बाँटते रोटी का निवाला
छीनते हैं द्वेषी बन रोटी का निवाला

खेलकूद में साथ साथ पले,पढ़े बढ़े
प्रीत में बंटन से हो गया है बंटवारा

भाईचारे बिना संपन्न ना होता कार्य
नूतन की भेंट चढ़ा हमारा भाईचारा

मंहगाई की मार मर गया भाईचारा
साक्षरता में सत्यानाश हैं भाईचारा

संयुक्त परिवारों में जिंदा भाईचारा
एकल परिवार में एकांत भाईचारा

पूर्वजों से हस्तांतरित था भाईचारा
सुखविंद्र न गुजारा बिना भाईचारा
***************************

सुखविंद्र सिंह मनसीरत
खेड़ी राओ वाली

3 Views
सुखविंद्र सिंह मनसीरत कार्यरत ःःअंग्रेजी प्रवक्ता, हरियाणा शिक्षा विभाग शैक्षिक योग्यता ःःःःM.A.English,B.Ed व्यवसाय ःःअध्ययन अध्यापन...
You may also like: