भटकाव, ठहराव

जीवन बस भटकाव है, दिखता नाहिं छोर
गर चाहे ठहराव तू, प्रभु कर दे दे डोर
शीला गहलावत सीरत
चण्डीगढ़, हरियाणा

2 Likes · 32 Views
सपने देखना कैसे छोड़ दूं सजाये अरमान कैसे तोड़ दूं हिन्दी, हरियाणवी में ग़ज़ल, गीत,...
You may also like: