.
Skip to content

भजन :- * श्याम मोरे अब दे दो दर्शन *

भूरचन्द जयपाल

भूरचन्द जयपाल

कविता

February 6, 2017

प्रारम्भिक बोल
श्याम मोरे अब दे दो दर्शन
जीवन -सन्ध्या आन खड़ी
मीच मुझे ताकन लागी
दाव पड़े खावन लागी।।
*********
आलाप
श्याम मोरे श्याम
श्याम मोरे श्याम
**********
** ॐ **
दीन-दुखी अब तेरे द्वारे
आन मिलो अब मोहन प्यारे
छिन-छिन दूभर जीवन लागे
अब भवसागर से तारो प्यारे
***********
पीर बनी है गिरिवर भारी
हे गिरधारी उबारो इससे
जीवन-बंशी सुर-हीन बनी है
धारो कर में हे मुरलीधारी
*******
गो -धन अब ना सम्भरे साईं
इत-उत जात, ना थिर हो पाई
हे गोपाल दीनदयाल
बंशीधर हे ब्रजबिहारी
********
लूट मची है अब गोकुल में
तन-गोकुल को आन बचा लो
हे कंसारी हे कृष्णमुरारी
दुखभंजक हे नन्ददुलारे
********
भवसिंधु से तारो अब तो
नैन हमारे दूखन लागे
कब आओगे कृष्ण-मुरारे
नैन हमारे हारन लागे
*******
दीन-दुखी अब तेरे द्वारे
आन मिलो अब मोहन प्यारे ।।
********* ?मधुप बैरागी
श्रीकृष्ण गोविन्द हरे मुरारी
हे नाथ नारायण वासुदेवा

Author
भूरचन्द जयपाल
मैं भूरचन्द जयपाल स्वैच्छिक सेवानिवृत - प्रधानाचार्य राजकीय उच्च माध्यमिक विद्यालय, कानासर जिला -बीकानेर (राजस्थान) अपने उपनाम - मधुप बैरागी के नाम से विभिन्न विधाओं में स्वरुचि अनुसार लेखन करता हूं, जैसे - गीत,कविता ,ग़ज़ल,मुक्तक ,भजन,आलेख,स्वच्छन्द या छंदमुक्त रचना आदि... Read more
Recommended Posts
मेरे श्याम प्यारे
मेरी हर सांस है , कर्जदार आपकी , ओ मेरे श्याम प्यारे मेरी हर आवाज का आगाज आप ही हो श्याम प्यारे टूट कर साँसों... Read more
मेरे श्याम
मुझे साथ अपने ले चल, मेरे श्याम.... साँवरे..... रहता है तू जहाँ पर मेरे श्याम..... साँवरे..... वो डारियाँ कदंब की, तेरा साथ मेरे होना; मेरे... Read more
* सकल जगत में रमते दोनों *
श्याम श्याम रटते रहो दिन हो चाहे रात श्याम श्याम ही को हरते जीवन में करते प्रकाश राम नाम जपते रहो रमता सकल जहान राम... Read more
*** रंग डारो मोरे मन को ***
तन रंगे अब का होवे है रंग डारो मोरे मन को ।। ओ पिया ओ पिया ओ पिया मैं तो हो ली अब साजन की... Read more