.
Skip to content

भगवे की है उठी सुनामी

सुनील पुष्करणा

सुनील पुष्करणा "कान्त"

कविता

March 20, 2017

“भगवे की है उठी सुनामी , संग मे यूपी डोली है ,”
“सीएम अपना माँग रही ये , योगी योगी बोली है……..”
“गोरखपुर बड़भागी है जो , योगी योगी गाता है ,”
“जिला जौनपुर , बलिया , बस्ती , योगी से हर्षाता है………”
“सुनो ध्यान से बोल रहा ये , मथुरा , मऊ , महोबा है ,”
“बस्ती , गोंडा , बहराइच भी , योगी रंग में डूबा है……..”
“बाराबंकी , बाँदा देखो , सारा मेरठ मान लिया ,”
“योगी अबकी सीएम होंगे , काशी ने प्रण ठान लिया………”
“अमरोहा , बिजनौर खड़े , और संग में रायबरेली है ,”
“सीएम अपना माँग रही , ये योगी योगी बोली है………”
“कौशाम्बी , कन्नौज , इटावा माँगे अबकी योगी ,”
“कहे मुजफ्फरनगर न अबकी , चुनेंगे कोई ढोंगी………”
“मंदिर फैजाबाद माँगता , जन-जन की हुंकार ,”
“चित्रकूट , श्रावस्ती माँगे , योगी की सरकार……..”
“सुनो अलीगढ़ , आजमगढ़ के , हिंदू भी तो जाग रहे ,”
“मिर्जापुर , उन्नाव , बागपत , भगवा रंग अब माँग रहे………”
“विधान भवन लखनऊ पे चढ़कर , हवा बसंती डोली है ,”
“सीएम अपना माँग रही , ये योगी योगी बोली है……….”
“सोनभद्र , सीतापुर , सम्भल , हरदोई , जालौन ,”
“सिद्धार्थनगर , रविदासनगर , जिला न कोई मौन………”
“सुनो अमेठी , एटा , झाँसी , गाजीपुर की बात है ,”
“मैनपुरी , हापुड , औरेया , योगी जी के साथ है……..”
“पीलीभीत , फतेहपुर कहते , और देवरिया यार ,”
“अबकी बार शामली माँगे , योगी की सरकार………”
“खड़े फिरोजाबाद , आगरा , साथ-साथ चँदौली है ,”
“सीएम अपना माँग रही , ये योगी योगी बोली है………”
“इतने पर भी नही सुना तो , सुनो ललितपुर बोलेगा ,”
“भगवा लेकर कानपुर भी , योगी संग में डोलेगा………”
“इधर इलाहाबाद , गाजियाबाद , उधर ललकारेगा ,”
“बुलंदशहर , महराजगंज बस , योगी पार उतारेगा……..
.”
“कासगंज और रामपुर , कबीरनगर ने ठान लिया ,”
“खीरी , गौतमबुद्धनगर ने , योगी सीएम माँग लिया………”
“योगी रंग मे रंगा बदायूं , संग मे रंगी बरेली है ,”
“सीएम अपना माँग रही , ये योगी योगी बोली है………”
“यूपी योगी माँग रही है , हिंदू का है काम यही ,”
“सीएम होंगे योगी तो , तम्बू में होंगे राम नहीं………”
“भगवे का बल पौरुष और , दल हिंदू का हुंकार भरेगा ,”
“मंदिर होगा हठ ना होगा , मठ का योगी राज़ करेगा………”
“गौ रक्षा हो मंदिर हो , भय नहीं कही हो वो जागे है ,”
“भगवा रंग में यूपी रंगने को , हर हिंदू जागे है………”
“डूबे जैसे काशी नगरी , नमो नमो जय बोली थी ,”
“सुनो अवध की जन्मभूमि , ये योगी योगी बोली है……..”

Author
Recommended Posts
' मधु-सा  ला '  चतुष्पदी शतक [ भाग-2 ]   +रमेशराज
चतुष्पदी--------26. बेटे की आँखों में आँसू, पिता दुःखों ने भर डाला मजा पड़ोसी लूट रहे हैं देख-देख मद की हाला। इन सबसे बेफिक्र सुबह से... Read more
कहानी अनन्त आकाश --- कहानी संग्र्ह वीरबहुटी से
कहानी --- लेखिका निर्मला कपिला ये कहानी भी मेर पहले कहानी संग्रह् वीरबहुटी मे से है कई पत्रिकाओंओं मे छप चुकी है और आकाशवाणी जालन्धर... Read more
कहानी अनन्त आकाश -------  वीरबहुटी संग्रह से
कहानी ये कहानी भी मेर पहले कहानी संग्रह् वीरबहुटी मे से है कई पत्रिकाओं मे छप चुकी है और आकाशवाणी जालन्धर पर भी मेरी आवाज... Read more
अॉड ईवन
अॉड और ईवन" १ ~~~~~~~~~~~ निशा के घर उसकी बचपन की सहेली मोनाली आई थी। सालों बाद मिल रही थीं दोनों। मोनाली के पति का... Read more