भगवान

“भगवान”
भूमि
गगन
वायु
अग्नि
नीर
इन पांच तत्तवों से मिलकर बनता है “भगवान”
अर्थात हम सब “भगवान” हैं…
परन्तु अपने कर्मोँ के अनुसार कहलाते हैं-
भगवान,इंसान,शैतान

सुनील पुष्करणा

Like Comment 0
Views 14

You must be logged in to post comments.

Login Create Account

Loading comments
Copy link to share
Sahityapedia Publishing