Jun 11, 2018 · कविता
Reading time: 1 minute

–भगवान सदा अपने–सवैया छंद

सवैया छंद की परिभाषा और उदाहरण
सवैया
——–सवैया छंद में चार चरण होते हैं।इसके प्रत्येक चरण में बाईस से छब्बीस वर्ण या अक्षर होते हैं।ये कई प्रकार के होते हैं;जिनकी अलग-अलग संज्ञा होती है।सवैया छंद में एक ही गण को बार-बार आना चाहिए; अगर इसका पालन नहीं होता है तब भी वह सवैया ही कहलाएगा।हिंदी साहित्य में अनेक कवियों ने सवैया छंद लिखे हैं।इनमें रसखान कृष्ण भक्ति के मार्मिक सवैया छंद लेखन में विशेष स्थान रखते हैं।
मत्तगयंग सवैया
——————–
इसके प्रत्येक चरण में तेईस अक्षर या वर्ण होते हैं ;जिनमें सात भगण और दो गुरू आते हैं।
भगण=SII
गुरू=S
SII×7+S
उदाहरण-सवैया (मत्तगयंग सवैया)
राम सदा करता सबके मनभावन पूर्ण सजे सपने रे।
नाम रटा करता भजके जन पावन राग लगा जपने रे।
प्रेम जगा मन से करता उसका तप हार नहीं सपने रे।
जीत सदा रहती मन में सजके भगवान सदा अपने रे।

राधेयश्याम बंगालिया “प्रीतम”
————————————

1 Like · 546 Views
Copy link to share
आर.एस. 'प्रीतम'
713 Posts · 73.8k Views
Follow 34 Followers
🌺🥀जीवन-परिचय 🌺🥀 लेखक का नाम - आर.एस.'प्रीतम' जन्म - 15 ज़नवरी,1980 जन्म स्थान - गाँव... View full profile
You may also like: