Skip to content

भगवान परशुराम जयंती पर रचना

लेखक कपीन्द्र शर्मा

लेखक कपीन्द्र शर्मा

अन्य

April 28, 2017

जय भगवान परशुराम

पितृ भगत परशुराम जी , विष्णु के छठे अवतार हुए ।
पिता जमदग्नि माँ रेणुका के,पांचवें ऋषिकुमार हुए ।। टेक
१ त्रेतायुग मैं भृगु कुल के , घर मैं होया उजाला
शुक्ल पक्ष की बैशाख तीज नै , जनम्या फरसे आला
मात-पिता नै बड़े चाव से , लाड लडा कै पाला
ऋचीक मुनि और कश्यप जी नै , दिया ज्ञान निराला
सारंग धनुष और अविनाशी मन्त्र , गुरु देण नै तैयार हुए ।।
२ जमदग्नि नै एक समय मैं , हवन करण की धारी थी
गंगाजल गई लेण रेणूका , वा घड़ी बीतती जार्ही थी
क्रोध के कारण जमदग्नि नै , मन मैं गलत विचारी थी 
पिता आज्ञा तैं परशुराम नै , माँ की गरदन तारी थी
वर मैं जीवन मांग्या उनका , हटकै फेर दीदार हुए ।।
३ कपिला गाँ के कारण उसनै , सहन्स्रबाहु मार दिया
सहन्स्रबाहु के बेट्यां नै सिर , जमदग्नि का तार दिया
क्रोध मैं भरकै परशुराम नै , खपा सब परिवार दिया
पांच तला भरे खून तैँ , कर दुश्मन का संहार दिया
इक्कीस बार मिटा दिए छत्री , ऐसे बली अपार हुए ।।
४ गरीबों का था प्यारा वो , नारी का सम्मान कऱ्या
भीष्म , द्रोण और कर्ण जिस्यां नै , गुरु रूप मैं ध्यान कऱ्या
जाति श्रेष्ठ ,ब्राह्मण जाति , वेदों नै व्याख्यान कऱ्या
लाखण माजरे आले नै परशुराम गुणगान कऱ्या
कपीन्द्र शर्मा अपणे गुरु के , शिष्य ताबेदार हुए ।।

लेखक – कपीन्द्र शर्मा
©®kapinder sharma

Recommended
आहिस्ता आहिस्ता!
वो कड़कती धूप, वो घना कोहरा, वो घनघोर बारिश, और आयी बसंत बहार जिंदगी के सारे ऋतू तेरे अहसासात को समेटे तुझे पहलुओं में लपेटे... Read more
आस!
चाँद को चांदनी की आस धरा को नभ की आस दिन को रात की आस अंधेरे को उजाले की आस पंछी को चलने की आस... Read more
ये माना घिरी हर तरफ तीरगी है
ये माना घिरी हर तरफ तीरगी है मगर छन भी आती कहीं रोशनी है न करती लबों से वो शिकवा शिकायत मगर बात नज़रों से... Read more
क्यू नही!
रो कर मुश्कुराते क्यू नही रूठ कर मनाते क्यू नही अपनों को रिझाते क्यू नही प्यार से सँवरते क्यू नही देख कर शर्माते क्यू नही... Read more
Author
लेखक कपीन्द्र शर्मा
अगर आप अतीत को ही याद करते रहेंगे , तो वर्तमान में जीना मुश्किल हो जाएगा , और भविष्य तो असंभव प्रतीत होने लगेगा , अतः वर्तमान में जीएं ! लेखक - कपीन्द्र शर्मा गांव - लाखनमाजरा जिला - रोहतक... Read more