.
Skip to content

भगवान को किसने बनाया ?

भूरचन्द जयपाल

भूरचन्द जयपाल

कविता

January 3, 2017

भगवान को किसने बनाया ?
*******######********
भगवान को किसने बनाया?
है ना एक अजीब सा सवाल
हम अक़्सर ये सोचते हैं कि
सभी को भगवान ने बनाया
फिर भगवान ने भेदभाव
कुछ अटपटा सा लगता है
फिर इतने सारे भगवान फिर
दिमाग़ फिरने लगता है फिर
इंसान इंसान को फिराने फिर
ये फेर ऐसा फिरा कि फिर फिर
लौट के इंसान आने लगा जगत में
बड़ा अज़ीब चक्र चलाया उस अज्ञात
भगवान ने इंसान को इतना बेईमान
बनाया कि इंसान को इंसान
कभी नहीं समझ पाया
ये किसी भगवान का कारनामा
नहीं था महज़ इंसान का खेल था
जो भगवान कभी था ही नहीं
उसे तो इंसान ने हीं बनाया था
अपने उपयोग के लिए खिलौना
जिसे लॉकअप में बन्द रखता है
कहीं भाग न जाये बन्धुआ मजदूर
फिर हमारी आमदनी का क्या होगा
फिर हमारी बेगार कौन करेगा
कौन हमारा पेट भरेगा बेचारा
भगवान इनका पेट भरते भरते
थक गया है बड़ा लाचार है
उसे छुड़ाने की आवश्यकता है
जिसको इंसान ने बनाया ।।
?मधुप बैरागी

Author
भूरचन्द जयपाल
मैं भूरचन्द जयपाल स्वैच्छिक सेवानिवृत - प्रधानाचार्य राजकीय उच्च माध्यमिक विद्यालय, कानासर जिला -बीकानेर (राजस्थान) अपने उपनाम - मधुप बैरागी के नाम से विभिन्न विधाओं में स्वरुचि अनुसार लेखन करता हूं, जैसे - गीत,कविता ,ग़ज़ल,मुक्तक ,भजन,आलेख,स्वच्छन्द या छंदमुक्त रचना आदि... Read more
Recommended Posts
इंसान को यहाँ बाटा किसने (कविता) फिजाओं में जहर घोला किसने। कसौटी पर हमें तोला किसने। हम तो मोहब्बत के व्यापारी हैं। फिर नफरत की... Read more
भगवान
"भगवान" भूमि गगन वायु अग्नि नीर इन पांच तत्तवों से मिलकर बनता है "भगवान" अर्थात हम सब "भगवान" हैं... परन्तु अपने कर्मोँ के अनुसार कहलाते... Read more
भगवान बचाओं
भगवान बचाओं .... देखो कलयुग ऐसा आया , भगवानों का भी घर है बनाया , इससे काम नहीं चला तो उसमे ताला भी लगवाया ....... Read more
भगवान का व्यापार
RASHMI SHUKLA लेख Mar 27, 2017
जिसने बनाया है ये सारा संसार, उसी को लोगो ने बना लिया है व्यापार, पढ़ लिखकर अब लोग पंडित हुआ करते हैं, दो अक्षर जो... Read more