.
Skip to content

भगवान का व्यापार

RASHMI SHUKLA

RASHMI SHUKLA

लेख

March 27, 2017

जिसने बनाया है ये सारा संसार,
उसी को लोगो ने बना लिया है व्यापार,
पढ़ लिखकर अब लोग पंडित हुआ करते हैं,
दो अक्षर जो समझकर पढ़ ले अरबी के,
उनसे लोग अपनी किस्मत बदलने की दुआ करते हैं,
भूल गए हैं सारे गीता ज्ञान और पवित्र क़ुरआने आयत को,
बस चले गर इंसान का तो सबकी खुद की एक अदालत हो,
जिसमे खुद ही गुनाहगार,सुबूत, और खुद ही सब गवाह हो,
और बड़े से बड़ा अपराध करके भी गुनाहगार व इज्जत रिहा हो,
हर गली हर नुक्कड़ पे ईश्वर और अल्लाह को बिठाया है,
व्यापार चले दमदार तभी हर दरवाजे पे दानपात्र लगाया है,
ताक पे रख दिया है आज लोगों ने अपने मालिक और भगवान को,
शौक ए अहंकार में भूल गया है इंसान ही आज इंसान को,

Author
RASHMI SHUKLA
mera majhab ek hai insan hu mai
Recommended Posts
मुक्तक
कुछ लोग खुद को तेरा दीवाना कहते हैं! कुछ लोग खुद को तेरा परवाना कहते हैं! कई लोग ढूँढते हैं पैमानों में तुमको, तेरी अदाओं... Read more
!! शायरी !!
सही काम करने वाले के दुश्मन हो जाते हैं लोग न जाने क्या क्या बातें बना ही देते हैं लोग सही काम करने की शैली... Read more
,,,कहते है लोग,,,
Sonu Jain कविता Oct 27, 2017
,,,कहते है लोग,,, दुनिया ही बुरी है, क्यू कहते है लोग,,,, खुद कितने भले है, क्या जानते है लोग,,,, अमीरो के इर्द गिर्द, क्यू घूमते... Read more
शहर के लोग
Raj Vig कविता Jan 23, 2017
मेरे शहर मे जो रहते है लोग अलग से वो सब लगते हैं लोग दूसरो को नसीहत देते हैं लोग खुद सब गलत करते हैं... Read more