भगवद् गीता के श्लोकों से

(१)अवनि अंबर अनिल अनल,
अंतस व अहंकार।
मिलकर आप: औ अकल,
अपरा अष्ट प्रकार।
–(आप:-पानी),(अकल-अक्ल बुद्धि)
(२)अष्ट अकार से विरचित ,
नश्वर जग का ठाट।
जीव बना मैं कर रहा ,
सौदा शुल्फ व हाट।
(३)अष्ट अकार अपरा है ,
परा मुझे ही जान।
मैं ही मरता जनमता ,
सत्य इसे ही मान।

Like Comment 0
Views 8

You must be logged in to post comments.

Login Create Account

Loading comments
Copy link to share