*** भक्ति गीत ***

।। भक्ति गीत ।।
***मैया तेरे द्वार कब से मैं खड़ी हूँ
कर दे तू कृपा दर्शन को तरसी हूँ
सुन ले तू पुकार ! विनती लिये खड़ी हूँ
आँचल फैला तेरे चरणों में पड़ी हूँ
🌹🌷🌹🌷🌹🌷🌹🌷🌹🌷🌹
भर दे झोली मेरी माँ किधर जाऊंगी
जिधर जाऊँगी माँ उधर पाऊँगी
दरश तेरी महिमा का गुण गाऊँगी
🌺🌻🌺🌻🌺🌻🌺🌻🌺🌻🌺🌻
सारे कष्टों को पल में मिटा जायेगी
मन में आशा की ज्योति जला जायेगी
झोली भर के वहां से चली जायेगी
🏵🌸🏵🌸🏵🌸🏵🌸🏵🌸🏵🌸
रह ना जाये मुरादें पूरी कर जायेगी
सारे भक्तों को दर्शन दे जायेगी
खुशियों से दामन भर जायेगी
💐🌷💐🌷💐🌷💐🌷💐🌷💐🌷
स्वरचित मौलिक रचना 📝📝
***जय माता दी ***
*शशिकला व्यास ***
*# भोपाल मध्यप्रदेश #*

Like Comment 1
Views 43

You must be logged in to post comments.

Login Create Account

Loading comments
Copy link to share
Sahityapedia Publishing