.
Skip to content

ब्रजभाषा में घनाक्षरी छंद

mahesh jain jyoti

mahesh jain jyoti

घनाक्षरी

August 15, 2017

?????
* श्री कृष्ण जन्म *
****************
ब्रज वसुधा के कन नित जन-जन मन ,
फूलन में पातन में गूँजै नाम श्याम रे ।
मोहन मुरारी मन मोहत मुरलिया ते ,
गूँजै अधरन जन, साँवरिया नाम रे ।
गलियन-गलियन ठौर-ठौर गामन में ,
लीलाधर लीला रचीं भूमि बनी धाम रे ।
छोड़ क्षीर सागर पधारे हरि यहाँ ‘ज्योति’,
जेलन में जनमे हैं प्यारे घनश्याम रे ।।1
?
टूट गये तारे सब सोय गये रखवारे ,
भादों की अँधेरी रैन घन घिरे घोर रे ।
लै कै वसुदेव चले छबड़ा कूँ सिर धरे ,
कूक रहे आठैं की वा रजनी में मोर रे ।
उफनी हैं यमुना जी शेष नै करी है छाँव,
बोली कहाँ जाऔ छोड़ आँचर कौ छोर रे ।
‘ज्योति’ लटकाय दिये चरण कमल श्याम,
छिये पाँव यमुना नै चले चितचोर रे ।।2
?
छोरा धर छोरी लिये लौटे वासुदेव जेल,
तारे लगे जागे रखवारे भयौ शोर रे ।
आयौ मामा कंस लियौ छीन शिशु देवकी ते ,
नैक न रहम खायौ पाप किये घोर रे ।
पटक सिला पै मारी छिटक गगन गई ,
बोली तेरे पापन कौ आय गयौ छोर रे ।
पैदा भयौ काल कंस गूँजे स्वर देवी माँ के ,
लौटौ खाली हाथ मलै चहकी है भोर रे ।।3
?
गोकुल में नंद जी के बाज रही शहनाई,
लाल कूँ निहारै भयौ यशुदा कूँ होस रे ।
रोयौ नंदलाल मचौ शोर चहुँ ओर फिर ,
उरन में भर गयौ जन-जन जोस रे ।
दैंवन बधाई लागे गोकुल की गलियन,
गूँजे चहुँ ओर नंदलाल जयघोष रे ।
थारीहु बजन लागीं लड़ुआ लुटन लागे ,
नंद नैहु खोल दिये दिल-द्वार कोष रे ।।4
?
महेश जैन ‘ज्योति’,
मथुरा ।
???

Author
mahesh jain jyoti
"जीवन जैसे ज्योति जले " के भाव को मन में बसाये एक बंजारा सा हूँ जो सत्य की खोज में चला जा रहा है अपने लक्ष्य की ओर , गीत गाते हुए, कविता कहते और छंद की उपासना करते हुए... Read more
Recommended Posts
‘ रावण-कुल के लोग ‘  (लम्बी तेवरी-तेवर-शतक)  +रमेशराज
बिना पूँछ बिन सींग के पशु का अब सम्मान मंच-मंच पर ब्रह्मराक्षस चहुँदिश छायें भइया रे! 1 तुलसिदास ऐसे प्रभुहिं कहा भजें भ्रम त्याग अनाचार... Read more
***  मन का पंछी **
?मन का पंछी उड़ ना जाये रे बडी भौर हुई मन दिल को ये समझाये बन्ध पिंजरे में पंछी रे कैसे उड़ ये पाये रे... Read more
पर्वराज पर्यूषण
पर्वराज पर्यूषण आयो रे पर्वराज पर्यूषण नित प्रति करें जिनदर्शन पूजा पाठ रचाएं भविजन हों धार्मिक आयोजन आयो रे पर्वराज पर्यूषण सात्विक शुद्ध करें भोजन... Read more
भोले मुझपे रहम कर
Ankur pathak गीत Jul 10, 2017
तर्ज- सनम रे सनम रे हो वो हो वो हो वो वो वो..... नंगे नंगे से मै तेरे द्धार पे आऊं रे , दूध ,शहद... Read more