Skip to content

” बोलो मेरे यार बुझे क्यूँ रहते हो “

Kavi DrPatel

Kavi DrPatel

गज़ल/गीतिका

May 28, 2016

? सुप्रभात मित्रों ?

???????????

बोलो मेरे यार बुझे क्यों रहते हो ।
लाख छुपाओ आँखों से सब कहते हो ।

फूलों के दिल को तुम भी तो भा जाते ।
बनकर के क्यों खार ये नफरत सहते हो ।

माना वो दिल तेरा फिर से तोड़ गया ।
बार बार क्यूँ बांह उसी की गहते हो ।

तुझको फूटी आँख नहीं देखा जिसने ।
उसके आंसू बन करके क्यों बहते हो ।

जब भी तुमसे आस कभी मैंने बांधी ।
आग लगे पुतले के जैसे ढहते हो ।

मोड़ रहा हूँ लहरों को मैं कबसे ही ।
बन करके पतवार जो आओ चहते हो ।

शोला से शबनम बन जाओ मानो भी ।
दहक दहक कर क्यूँ सारा दिन दहते हो ।

सीने में यदि जगह जरा सी मिल जाती ।
सब कहते तुम ताजमहल में रहते हो ।

????????????

? वीर पटेल .?

Author
Kavi DrPatel
मैं कवि डॉ. वीर पटेल नगर पंचायत ऊगू जनपद उन्नाव (उ.प्र.) स्वतन्त्र लेखन हिंदी कविता ,गीत , दोहे , छंद, मुक्तक ,गजल , द्वारा सामाजिक व ऐतिहासिक भावपूर्ण सृजन से समाज में जन जागरण करना
Recommended Posts
रूठा यार
रूठा मेरा यार,न जाने क्योँ? छोड़ा मेरा साथ, न जाने क्यों? रोयें जज्बात,न जाने क्यों? बिना बात की बात,न जाने क्यों? दिल तो था उदास,... Read more
गीत
Neelam Sharma गीत Aug 1, 2017
काफियाःते रदीफः हैं। सुमन, पुष्प बागबां में नवनीत ही खिलते रहते हैं । कभी पतझड़ कभी बहार में दिल मिलते रहते हैं। हमारे दिल में... Read more
बेटी की पुकार
???? बेटा बेटी एक समान बता क्यूँ नहीं देते? जमाने के आँखों से ये पर्दा हटा क्यूँ नहीं देते? बेटों से कभी कम नहीं है... Read more
?साथ चले क्यो दूर जाते हो?
?साथ चले क्यो दूर जाते हो? क्यू इस तरह मन जलाते हो,, जहा आग लगी वह क्यों नहीं बुझाते हो,, देश बालो दिल लगाने में... Read more