.
Skip to content

बोलो माँ

arti lohani

arti lohani

कविता

September 14, 2017

कैसे तुझे पुकारूँ मॉ ( कविता)
— आरती लोहानी
कैसे तुझे पुकारूँ हे मॉ !
बोल कोख में क्यों मारा ,मॉ !
कैसे आप बनी हत्यारिन ।
मातृत्व आपका हारा , मॉ !!१!!

थी क्यो बोझ धरा पर ,बोलो !
तू इतना बतला दे मुझको !
क्या तेरी सेवा ना करती ।
तू इतना समझा दे मुझको !!२!!

बस, इतना बतलादे मुझको ।
भाई जैसे मैं ना पढ़ती ।
क्यों इतनी नफ़रत थी मुझसे ।
मैं कुल की इज्जत ही बनती !!३!!
तुमको किंचित दया न आयी ।
सॉसें मेरी धड़क रहीं थीं ।
मेरे सपने चूर कर दिये ।
आने को मैं मचल रही थी ।।४!!
— आरती लोहानी ( पंजाब )

Author
arti lohani
Recommended Posts
बोल माँ
कैसे तुझे पुकारूँ मॉ ( कविता) -- आरती लोहानी कैसे तुझे पुकारूँ हे मॉ ! बोल कोख में क्यों मारा ,मॉ ! कैसे आप बनी... Read more
मॉ क्यों?
मॉ क्यों लगती है मेरी किलकारी तुझको अपनी लाचारी मॉ क्यों करती हो तुम अपनी बिटिया से ही गद्दारी मॉ आ जाने दो ना मुझको... Read more
बाल कविता
पढ़ना चाहें गे एक बाल कविता। थोड़े समय के लिए बन जाये बच्चे। पंछियों को देख उड़ता मै भी अब उड़ना चाहूं पूछ रही हूं... Read more
क्या मैं इतना बुरा हूँ ?
क्यों अपनी ?कड़वी बातों से मारती है मुझको ? क्यों ये जुल्मी दुनिया? धिक्कारती है मुझको ? क्यों मेरी ज़िंदगी? खफा है मुझसे ? रुलाने... Read more