***बैसाखी पर्व***

रंग रंगीला बैसाखी पर्व है आया
खुशियों ने है रंग जमाया |

चारों तरफ है छाई बहार
दिल में जागी उमंगे हजार|

साकार हुए हैं सबके सपने
मिल कर बैठे सारे अपने |

धरती का मुग्ध हुआ हर कोना
खेतों मे बिखरा है सोना |

देख कर जिसको हर पल
महक रहा किसान का मन आँगन |

तासे ढोलक और बाजे बजे है
देखो सब मस्त मग्न सजे हैं |

चिडियों से वो बाज लडाए
तब गुरू गोबिन्द वो नाम धराए |

देकर प्यारा पंथ खालसा
बन गए वो सबके दिलों के बादशाह |

गंगा मैय्या तब धरा पर आई
भक्ति की है की धारा बहाई

आओ “मीनाक्षी” सब मिल नाचे गाएं
पावन बैसाखी का हम पर्व मनाएं |
डॉ मीनाक्षी कौशिक रोहतक

क्या आप अपनी पुस्तक प्रकाशित करवाना चाहते हैं?

साहित्यपीडिया पब्लिशिंग द्वारा अपनी पुस्तक प्रकाशित करवायें सिर्फ ₹ 11,800/- रुपये में, जिसमें शामिल है-

  • 50 लेखक प्रतियाँ
  • बेहतरीन कवर डिज़ाइन
  • उच्च गुणवत्ता की प्रिंटिंग
  • Amazon, Flipkart पर पुस्तक की पूरे भारत में असीमित उपलब्धता
  • कम मूल्य पर लेखक प्रतियाँ मंगवाने की lifetime सुविधा
  • रॉयल्टी का मासिक भुगतान

अधिक जानकारी के लिए इस लिंक पर क्लिक करें- https://publish.sahityapedia.com/pricing

या हमें इस नंबर पर काल या Whatsapp करें- 9618066119

Like 1 Comment 0
Views 101

You must be logged in to post comments.

Login Create Account

Loading comments
Copy link to share