कविता · Reading time: 1 minute

बे अर्थ ज़बान

हम करते हैं आपकी इज्जत
देते हैं मान – सम्मान
आपके शहीद होने पर
रोता है देश का हर इंसान ,
और आप कायदा – तरीका नज़ाकत – नफासत
इस सेवा में आकर हैं सीखते
और उसी कायदे को ताक पर रख कर
हमें ” ब्लडि सिविलियन ” हैं कहते ,
आपके घर में भी तो
सिविलियनस होगें रहते
तो क्या उनको भी
इसी नाम से होगें पुकारते ?
आपके कार्यों को
वीरता के सर्वोच्च – सम्मान से
नवाजा जाता
और हमें ” ब्लडि सिविलियनस ” जैसी
गालियों से पुकारा जाता ,
तरीकों और सलीकों से
लबरेज़ आप
सिविलियनस से करते
परहेज़ आप ,
सिविलियनस से भरा यह देश
देता है मान आपको
मानता है इस देश की
शान – ओ – शान आपको ,
इस मान – सम्मान और शान को
व्यर्थ न होने दीजिये
” ब्लडि सिविलियन ” बोल कर
अपनी ज़बा को
बे – अर्थ न होने दीजिये ।

स्वरचित एवं मौलिक
( ममता सिंह देवा ,12/01/08 )

4 Likes · 6 Comments · 80 Views
Like
395 Posts · 18.3k Views
You may also like:
Loading...