.
Skip to content

बेवफ़ा है ज़िन्दगी और मौत पर इल्ज़ाम है

Mahesh Kumar Kuldeep

Mahesh Kumar Kuldeep "Mahi"

गज़ल/गीतिका

July 25, 2016

बेवफ़ा है ज़िन्दगी और मौत पर इल्ज़ाम है
मौत तो इस ज़िन्दगी का आखिरी आराम है

लोग जाने क्यों भटकते हैं खुदा की ख़ोज में
खोजिये ग़र माँ के क़दमों के तले हर धाम है

लीजिए पढ़ चाहे गीता बाइबल या फिर क़ुरान
सबमें केवल इक मुहब्बत का लिखा पैगाम है

मंज़िलों का रास्ता मालूम है सबको मगर
डर गया जो मुश्किलों से शख़्स वो नाकाम है

हुक्मरानों के लिये सारी मलाई इक तरफ़
लुट रहा सदियों से केवल आदमी जो आम है

सच से नाता तोड़कर जाते मुसाफ़िर याद रख
झूठ की परवाज़ अच्छी पर बुरा अंजाम है

देख पाता ही नहीं अपनी गलतियाँ आदमी
और सच दिखलाने वाला आइना बदनाम है

हर तरफ़ बदकारियाँ दुश्वारियां इतनी हुई
आदमीयत की हरिक कोशिश हुई नाकाम है

मर चुका ईमान, कठपुतली बने दौलत के सब
दौरे-हाज़िर में हरिक इंसान का इक दाम है

माही

Author
Mahesh Kumar Kuldeep
प्रकाशन साहित्यिक गतिविधियाँ एवं सम्मान – अनेकानेक पत्र-पत्रिकाओं में आपकी गज़ल, कवितायें आदि का प्रकाशन | प्रकाशित साहित्य - गुलदस्त ए ग़ज़ल (साझा काव्य-संग्रह), काव्य सुगंध भाग-3(साझा काव्य-संग्रह),कलाम को सलाम (साझा काव्य-संग्रह), प्रेम काव्य सागर (साझा काव्य-संग्रह), अनुकृति प्रकाशन, बरेली... Read more
Recommended Posts
ज़िन्दगी
ज़िन्दगी बेवजह हो तो इल्जाम होती है, ज़िन्दगी बावजह हो तो इनाम होती है, जो बना रहे हैं ज़िन्दगी दोजख अवधूत, वो ज़िन्दगी बिलावजह बदनाम... Read more
जिन्दगी
Raj Vig कविता Apr 29, 2017
माया के चक्र मे भ्रमित है हर इक जिन्दगी अधूरी इच्छाओं से ग्रसित है हर इक जिन्दगी । चिन्ताओं के भंवर मे कल्पित है हर... Read more
हम ग़रीबों से भला अब आपको क्या काम है
आपको जब ताकने का आँख पर इलज़ाम है ये बताऐं दिल हमारा किस लिये बदनाम है ............... आपने तो दिल को चकना चूर कर के... Read more
खार जैसी भी अक्सर  चुभी ज़िन्दगी
फूल सी ही न हँसती रही ज़िन्दगी खार जैसी भी अक्सर चुभी ज़िन्दगी प्यार नफरत ख़ुशी गम मिले इस तरह गीत कविता ग़ज़ल में ढली... Read more