May 15, 2021 · गीत
Reading time: 1 minute

बेवज़ह

बेवज़ह घर से जाने से क्या फ़ायदा
◆●◆●◆●◆●◆●◆●◆●◆●◆

बेवज़ह घर से जाने से क्या फ़ायदा,
आग में पाँव जमाने से क्या फायदा,
जब समय हो बुरा तो संभलकर चलें,
मुफ़्त में जाँ लूटाने से क्या फ़ायदा,
बेवज़ह……………………………..1

उस दुश्मन से डरिये जो छुपता नहीं ,
पर साया भी उसका जब दिखता नहीं,
कातिल-ए-सर फ़साने से क्या फ़ायदा,
बेवजह ……………………………..2

जग में ऐसे सितम से दूर ही रहना,
न हो दवा दर्दे दिल दूरियाँ सहना,
ज़ख्म सबको दे आने से क्या फ़ायदा,
बेवजह………………………………3

धैर्य रखो उठो और सम्भलकर चलो,
है हवा मैली इसमें न तनकर चलो,
जहरे आबू यूँ पीने से क्या फ़ायदा,
बेवज़ह……………………………..4

हमको विश्वास है वो दिन भी आएगा,
जब सहमा सा ये चमन खिल जाएगा,
सब्र विश्वास खोने से क्या फ़ायदा,
बेवज़ह……………………………..5

★★★★★★★★★★★★★★

◆अशोक शर्मा 15. 05. 2021◆
●●●●●●●●●●●●●●●●●●●●

3 Likes · 2 Comments · 52 Views
Copy link to share
Ashok Sharma
32 Posts · 2.1k Views
Follow 8 Followers
"सीखाने वाला एक शिक्षक और सीखने वाला एक विद्यार्थी।'' निवास: लाला छपरा, लक्ष्मीगंज, कुशीनगर,U.P. M.A.(Eco),... View full profile
You may also like: