Skip to content

बेमेल दोस्त

सोबन सिंह रावत

सोबन सिंह रावत

लघु कथा

October 17, 2017

वर्षो का याराना,साथ उठना, बैठना,खाना ,आना -जाना फिर भी बिना बात के रूठ जाना,सोचने पर मजबूर करता है,क्या ये सचमुच का याराना है या बेमेल गठबंधन,मतलब के लिए मजबूरी की दोस्ती। कौन है दोषी दोस्त या मैं स्वयं ? हो सकता है मेरा दोष ज्यादा हो,लेकिन इसका मतलब ये नहीं कि बात ही न की जाये।अगर सच्ची दोस्ती है तो बताने में परेशानी क्या है,कि आपने ये गलत किया।लेकिन नहीं नाक ऊंची है बात ही नहीं करनी। कई बार ऐसा हो गया। और अब शायद पानी सिर से गुजर गया। बेमेल दोस्ती को तोड़ने का मन मैंने बना लिया। दोस्ती या तो निभाना अच्छा,या फिर ढोने से तोड़ना अच्छा।।

Author
सोबन सिंह रावत
जन्म स्थान-ग्राम पोस्ट खवाड़ा बासर टिहरी गढ़वाल उत्तराखंड ।ग्राम पंचायत अधिकारी(पंचायत सचिव ) के पद पर कार्यरत जौनपुर टिहरी गढ़वाल उत्तराखंड।। जन्म तिथि एक नवम्बर उन्नीस सौ त्रेसठ।
Recommended Posts
ये माना घिरी हर तरफ तीरगी है
ये माना घिरी हर तरफ तीरगी है मगर छन भी आती कहीं रोशनी है न करती लबों से वो शिकवा शिकायत मगर बात नज़रों से... Read more
निकलता है
सुन, हृदय हुआ जाता है मृत्यु शैय्या, नित स्वप्न का दम निकलता है। रोज़ ही मरते जाते हैं मेरे एहसास, अश्क बनकर के ग़म निकलता... Read more
अभी पूरा आसमान बाकी है...
अभी पूरा आसमान बाकी है असफलताओ से डरो नही निराश मन को करो नही बस करते जाओ मेहनत क्योकि तेरी पहचान बाकी है हौसले की... Read more
आस!
चाँद को चांदनी की आस धरा को नभ की आस दिन को रात की आस अंधेरे को उजाले की आस पंछी को चलने की आस... Read more