.
Skip to content

बेबस दिवाने

Govind Kurmi

Govind Kurmi

कविता

March 14, 2017

?????????

मुहब्बत ही तो जालिम है कहे किस से बता यारा
?????????

हमारे इश्क का दुश्मन बना बैठा है जग सारा
?????????

तुम्हारी याद में दीपक जलाये गुनगुनाते हम
?????????

जमाना कह रहा है कि कोई शायर है बेचारा
?????????
?????????

नफरत के जमाने में दिवाने कम ही मिलते है
?????????

किसी संग नाम करने के फसाने कम ही मिलते है
?????????

यहां गर हो सके तुमसे किसी का साथ ले लेना
?????????

बड़ी नाराज दुनिया है अनजाने गम ही मिलते है
?????????
?????????

Author
Govind Kurmi
गौर के शहर में खबर बन गया हूँ । १लड़की के प्यार में शायर बन गया हूँ ।
Recommended Posts
कुछ शेर
shyam Vyas शेर Mar 13, 2017
दोस्त मिलते है दिल नहीं मिलते। ज़िन्दगी में हम सफर नहीं मिलते।। कहने को सारा जहाँ साथ होता है । वक्त आने पर अपने भी... Read more
यहां से तुम तो इलेक्शन भी जीत सकते हो
ज़मीनें मिलती हैं और आसमान मिलते हैं नसीब वालों को दोनो ..जहान मिलते हैं ............. हमें खबर है बा ज़ाहिर निकाह होता है मगर ये... Read more
एक  ही  सवाल  के  हज़ारों  जवाब  मिलते हैं
एक ही सवाल के हज़ारों जवाब मिलते हैं हज़ार जवाबों में लाखों सवाल मिलते हैं बहुत मुश्किल से मिलता है यहाँ दिल किसी से कहाँ... Read more
** मतलबी लोग **
हमें नफरत है उन लोगों से , जो झूठा दिखावा करते हैं । जुबाँ पर रहस्यमयी मिठास , और दिल में जहर रखते हैं ।।... Read more