.
Skip to content

बेबस था इतिहास

RAMESH SHARMA

RAMESH SHARMA

दोहे

January 30, 2017

वाहियात बातें करें,….रहें उगलते आग !
सुर साधो उनके लिए, जैसा उसका राग !!

नेताजी की सुन रहे , जहाँ सभी बकवास !
वादे सहमें से दिखे….बेबस था इतिहास ॥

करें सियासत राज्य में, सत्ता के गठजोड़ !
दर्द बढे तब राष्ट्र का, …..रोएं कई करोड़ !!
रमेश शर्मा

Author
RAMESH SHARMA
अपने जीवन काल में, करो काम ये नेक ! जन्मदिवस पर स्वयं के,वृक्ष लगाओ एक !! रमेश शर्मा
Recommended Posts
मुझे इतिहास लिखना है
चलते-चलते तेरे और मेरे हुनर में फर्क बहुत है ऐ मेरे दोस्त, तुझे इतिहास पढ़ना है और मुझे इतिहास लिखना है। कवि अभिषेक पाण्डेय
संघर्ष एक इतिहास
जुल्म_ए_खाकी या जुल्म_ए_खादी अधिकार के संघर्ष का तो इतिहास रहा है, किसी ने समर्पण किया है,तो कोई भक्त रहा है मुझे याद है पुरुषर्थ पोरस... Read more
एक कविता भारतीय सेना के नाम
"आज कुत्तो ने शेरो को छेडा है शेरो कि मांद मे किया बसेरा है बहुत हो गया है अब भाईचारा सब्र का बांध अब तोडा... Read more
आदमी
आदमी आदमी से परेशान खो दिया इंसानों ने सोचने की ताकत जुल्मों की जंगलों में भटक रहे हैं आदमी देखो कितना लाचार और बेबस हैं... Read more