Reading time: 1 minute

बेटे मेहमान हो गये,

बेटे मेहमान हो गये,
यूँ कन्यादान हो गये

जिनके पास न थी बेटी
वो घर वीरान हो गये

बेटी समझदार कितनी
बेटे नादान हो गये

रीत पुरानी यूँ बदलीं
दोहरे ईमान हो गये

‘वक़्त ‘अर्चना’यूँ बदला
खत्म खानदान हो गये

20-12-2017
डॉ अर्चना गुप्ता

305 Views
Copy link to share
Dr Archana Gupta
996 Posts · 118.8k Views
Follow 72 Followers
डॉ अर्चना गुप्ता (Founder,Sahityapedia) "मेरी तो है लेखनी, मेरे दिल का साज इसकी मेरे बाद... View full profile
You may also like: