.
Skip to content

“बेटी”

रमेश कुमार सिंह 'रुद्र'

रमेश कुमार सिंह 'रुद्र'

कविता

January 10, 2017

बेटी नहीं तो कल नहीं है।
बेटी है तो सुफल यहीं है।
बेटी है तो संसार है सुंदर।
बेटी है तो अरमान है सुंदर।
अन्तरज्योति है सपनों की।
ज्योति है बेटी नयनों की।
बेटी माँ की आंचल है।
फूल बगिया की आँगन है।
भाई के कलाई की बन्धन है।
प्यारी सी दुलारी सी चन्दन है।
माँ-बाप के सपनों की रानी है।
सुख-दुख में साथ निभाती है।
दो कुलों का नाम बढाती है।
परिवार का बोझ उठाती है।
बेटी है तो घर आंगन है
परिवार में सुन्दर सावन है।
कदम से कदम मिलाती है।
आगे बढने को सिखाती है।
आज वो जहाज उड़ाती हैं।
आटो रिक्शा भी चलाती हैं।
आन्तरिक्ष भेद कर आती हैं।
दफ्तर में हाथ बटाती हैं।
अब कम्प्यूटर भी चलाती हैं।
विद्यालय में बच्चों को पढाती हैं।
बेटी है तो भरापूरा परिवार है।
फलता फूलता यह संसार है।
बेटियां ही सृष्टि संचालक हैं
बेटी सृष्टि रचना का आधार है।

@रमेश कुमार सिंह ‘रुद्र’
(कान्हपुर कर्मनाशा कैमूर बिहार)
०६-०१-२०१७

Author
रमेश कुमार सिंह 'रुद्र'
मैं रमेश कुमार सिंह 'रुद्र' कान्हपुर कर्मनाशा कैमूर बिहार का हूँ मैं शिक्षक के पद पर हाईस्कूल बिहार सरकार मे कार्यरत हूं अभी तक देश के विभिन्न साहित्यिक संस्थाओं से 18 सम्मान प्राप्त कर चुका हूँ। "साहित्य धरोहर" पत्रिका के... Read more
Recommended Posts
बेटी
बेटी नहीं तो कल नहीं है। बेटी है तो सुफल यहीं है। बेटी है तो संसार है सुंदर। बेटी है तो अरमान है सुंदर। अन्तरज्योति... Read more
जीवन का आधार है बेटी  “मनोज कुमार”
जीवन का आधार है बेटी । सुख शक्ति संसार है बेटी ।। बदल देती जो दुनिया को । ऐसा एक बदलाव है बेटी ।। अत्याचार... Read more
बेटी
♡♤ बेटी ♤♡ माँ के हाथों का साथ है बेटी, नई मुस्कान की सौगात है बेटी, बेटी का प्रेम आँखों में बसता, परिवार के आँखों... Read more
बेटी
शक्ति का संचार है बेटी भक्ति का द्वार है बेटी मुक्ति का मार्ग है बेटी सृजन संसार है बेटी मन का भाव है बेटी रामायण... Read more