Skip to content

( बेटी )

महेश गुप्ता जौनपुरी

महेश गुप्ता जौनपुरी

कविता

March 11, 2017

( बेटी )

क्या मेरा हैं कसूर
तू बता दे मेरी माँ
कही गड्ढे में कही नाली में
क्या यही हैं मेरी पहचान माँ

मेरी दुनिया इतनी वीरानी क्यों हैं माँ
कही बोरी में कही कचरे में
क्या यही भारत के
वीरो की पहचान हैं माँ

इतनी घृणित हूँ तो जन्म देती हैं क्यो
बेटा ही पहचान हैं तो
बेटी कि जरुरत ही क्या
शान – बान बेटा तो बेटी हैं क्या

जब जरूरत ही नही मेरी तो
गर्भ में ही कर लो मेरी पहचान
मैं हूँ बेटी तो क्या हैं मेरा कसूर
हैं तुम्हें सौगन्ध ना ढुढना बेटे के लिए बहू

– महेश गुप्ता जौनपुरी
मोबाइल – 9918845864

Author
Recommended Posts
क्यो बेटी मारी जाती है
हे माँ बतला इक बात मुझे,क्यो बेटी मारी जाती है| कल माँ भी तो बेटी थी माँ ,फिर क्यो जिंदा रह जाती है|| बेदो मे... Read more
क्यो बेटी मारी जाती है
हे माँ बतला इक बात मुझे,क्यो बेटी मारी जाती है| कल माँ भी तो बेटी थी माँ ,फिर क्यो जिंदा रह जाती है|| बेदो मे... Read more
बेटी ही देवी
मत मारो मॉ मैं तुम्हारी ही तू हूँ , बेटा नहीं तो क्या बेटी ही तो हूँ, मैने सुना था बेटी देवी होती हैं, तुम... Read more
बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ
**बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ** पढ़ेगी बेटी आगे बढ़ेगी बेटी । बेटों से भी बढ़कर चमकेगी बेटी । जग में नाम रोशन करेगी बेटी । हर... Read more