.
Skip to content

बेटी….

डॉ. अनिता जैन

डॉ. अनिता जैन "विपुला"

कविता

January 24, 2017

कन्या को जन्म दूँगी ….
◆◆◆◆◆◆◆◆◆◆◆◆

हाँ मैं कन्या को जन्म दूँगी
एक जीवन को खिलने दूँगी ….

कौन होते हो तुम निर्दयी
जो मेरी कोख का फैसला करोगे
बेटों की चाह ने अँधा किया
मैं तो मेरी नन्ही जान को पलने दूँगी …

जाने क्या दे दिया ऐसा बेटों ने
जो बेटी हो जायेगी तो छिन जायेगा
बेवज़ह बेटों के गुमान में फूले न समाते
‘माँ बनूँगी मैं’ कातिलों की न दाल गलने दूँगी …

स्त्री होने पे घिन तो तब होती है
जब एक स्त्री ही जन्मपूर्व ही मृत्यु देना चाहे
ऐसी निष्ठुर हृदया को पाषाण ही बना देते
हे प्रभु ! है इतनी शक्ति किसी की न चलने दूँगी ….

कौनसा वो वाचाल शास्त्र है
जिसने पुरुषों को शिरोधार्य कर
प्रकृति के सहज विकास को चुनौती दी
मेरी ममता को मैं न कभी छलने दूँगी …..

हाँ … मैं कन्या को जन्म दूँगी , दूँगी , दूँगी ….
…..
@डॉ. अनिता जैन ” विपुला “

Author
डॉ. अनिता जैन
Lecturer at college . Ph. D., NET, M. Phil. M. A. (Sanskrit , Hindi lit.) अंतर्मन के उद्गारों को काव्य रूप में साझा करना ।
Recommended Posts
कन्या को जन्म दूँगी ....
कन्या को जन्म दूँगी .... ◆◆◆◆◆◆◆◆◆◆◆◆ हाँ मैं कन्या को जन्म दूँगी एक जीवन को खिलने दूँगी .... कौन होते हो तुम निर्दयी जो मेरी... Read more
मेरे अंश
मेरे अंश तुझे मैं सुख दूंगी मैं शक्ति बन तुझको बल दूंगी स्वार्थियों से भरे इस समाज मे मैं तुझको निःस्वार्थ जीवन दूँगी फर्क नही... Read more
मेरी बेटी
बेटों से ज्यादा मां बाप को प्यार करे मेरी बेटी । दो घरों का तन-मन से ध्यान धरे मेरी बेटी । बिटिया न होने के... Read more
बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ
Neelam Ji कविता Feb 23, 2017
**बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ** पढ़ेगी बेटी आगे बढ़ेगी बेटी । बेटों से भी बढ़कर चमकेगी बेटी । जग में नाम रोशन करेगी बेटी । हर... Read more